रक्षाबंधन 2021 : भाई की राखी का कौन सा हो रंग, जीवन में बनी रहेगी उमंग



राखियों के रंग, राशियों के संग

इस बार भाई को बांधें उनके राशि के रंग की राखी

22 अगस्त 2021 श्रावण शुक्ल पूर्णिमा के दिन राखी यानी है। भाई और बहन का यह स्नेह पर्व बहुत खास होता है। पिछली बार कोरोना और लॉक डाउन के कारण त्योहार की रौनक पर असर हुआ था। इस बार भी नियमों के तहत ही त्योहार मनाए जाएंगे.... हम आपको बता रहे हैं कि अगर भाई को उनकी राशि के अनुसार राखी बांधी जाए तो उनके लिए यह अत्यंत शुभ होगा। आइए जानते हैं विस्तार से...


मेष
यदि आपके भाई की राशि मेष है तो इसका स्वामी मंगल है। ऐसे लोगों को लाल रंग की राखी बांधना शुभ माना जाता है। इससे उनके जीवन में भरपूर ऊर्जा बनी रहती है।

वृष
इस राशि के लोगों का स्वामी शुक्र है। बहन अपने भाई को नीले रंग की राखी पहनाएं तो उसके लिए शुभ होगा। इससे उन्हें बेहतर परिणाम भी मिलेंगे।

मिथुन
इस राशि के स्वामी बुध है। ऐसे में आप चाहे तो अपने भाई को हरे रंग की राखी बांध सकते हैं। इससे सुखी, समृद्ध और दीर्घायु होते हैं।

कर्क
इस राशि के स्वामी चंद्रमा है। ऐसे लोगों के लिए पीले या फिर चमकीले सफेद रंग की राखी सही होगी। इस रंग से जीवन में भरपूर खुशहाली आएगी।

सिंह
इस राशि के स्वामी सूर्य है। ऐसे लोग अपने भाई के लिए पीले-लाल रंग की राखी खरीदें। उनके लिए शुभ होगा।

कन्या
इस राशि के स्वामी बुध होते हैं। भाई को अपने बहन से हरे रंग की राखी बंधवानी चाहिए। इससे सभी प्रकार के ग्रह दोष दूर हो जाते हैं। भाई-बहन के बीच प्रेम बना रहता है।

तुला
इस राशि के लोग के लिए नीला या फिर सफेद रंग की राखी बांधना शुभ होगा। इस राशि के स्वामी शुक्र है।


वृश्चिक
इस राशि का स्वामी मंगल है। इनके लिए लाल, सिंदूरी और गहरा गुलाबी रंग शुभ है।


धनु
इस राशि के लोगों के स्वामी बृहस्पति है। ऐसे लोगों को सुनहरे पीले रंग की राखी बंधवानी चाहिए या फिर केशरिया-पीले रंग की राखी बांधनी चाहिए।

मकर
इस राशि के स्वामी शनिदेव है। इन्हें न्याय का देवता कहा गया है। बहन अपने भाई को नीले रंग की राखी पहनाएं। इससे भाई-बहन का अटूट रिश्ता बना रहेगा।

कुंभ
इस राशि के स्वामी भी शनि माने जाते हैं। रक्षाबंधन पर रूद्राक्ष की राखी या फिर आसमानी रंग की राखी इनके लिए उत्तम होगी।

मीन
इस राशि के लोगों को सुनहरी हरी रंग की राखी खरीदना चाहिए। इनके लिए जामुनी व पीले रंग की राखी भी शुभ मानी जाती है।



और भी पढ़ें :