1. धर्म-संसार
  2. नवरात्रि 2022
  3. नवरात्रि पूजा
  4. Sharadiya Navratri 2022
Written By
पुनः संशोधित सोमवार, 26 सितम्बर 2022 (16:18 IST)

देवी दुर्गा को प्रिय हैं ये 10 फूल

26 सितंबर सोमवार से शारदीय नवरात्रि प्रारंभ हो गई है। इस नौ दिनों में देवी दुर्गा को प्रसन्न करके आप मनचाहा वरदान प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए देवी पूजा में जहां विभिन्न प्रकार के प्रसाद, चुनरी, फल, मिठाई आदि माता को अर्पित किए जाते हैं। वहीं उन्हें उनके प्रिय फूल भी अर्पित करें। मातारानी को आप उनके प्रिय 10 फूल चढ़ा सकते हैं।
 
1. शैलपुत्री : मां शैलपुत्री को गुड़हल का लाल फूल और सफेद कनेर का फूल अर्पित करने से वे बहुत प्रसन्न होती हैं।
 
2. ब्रह्मचारिणी : मां ब्रह्मचारिणी को गुलदाउदी का फूल पसंद हैं। इस दिन मां के चरणों में यह फूल अर्पित कर उन्हें प्रसन्न किया सकता है। 
 
3. चंद्रघंटा : मां चंद्रघंटा को कमल का फूल और शंखपुष्पी का फूल बेहद पसंद हैं। इस दिन मां के चरणों में यह फूल अर्पित करने से मां प्रसन्न होती है और जल्दी सफलता मिलती है।
 
4. कुष्मांडा : मां कुष्मांडा को चमेली का फूल या पीले रंग का कोई भी फूल पसंद है। इस फूल को अर्पण करने से मां प्रसन्न होकर अपने भक्तों को अच्छे स्वास्थ्य का आशीर्वाद देती हैं।
 
5. स्कंदमाता : मां को पीले रंग के फूल बहुत पसंद हैं। इस दिन माता को यह फूल अर्पित करने से मां प्रसन्न होकर सुख और समृद्धि का आशीर्वाद देती हैं।
 
6. कात्यायनी : कहा जाता है कि मां कात्यायनी को गेंदे का फूल और बेर के पेड़ का फूल पसंद है। उनके चरणों में ये फूल अर्पित करने से मां की विशेष कृपा प्राप्त होती है।
 
7. कालरात्रि : माता कालरात्रि को नीले रंग का कृष्ण कमल का फूल बहुत अधिक पसंद है। यदि ये फूल न मिले तो ​कोई भी नीले रंग का फूल भी अर्पित करेंगे तो माता प्रसन्न होगी।
 
8. महागौरी : माता महागौरी को मोगरे का फूल बेहद पसंद है। इस दिन मां के चरणों में यह फूल अर्पित करेंगे तो तो मां की कृपा हमेशा आपके घर-परिवार पर बनी रहेगी।
 
9. सिद्धिदात्री : मां को चंपा और गुड़हल का फूल बेहद पसंद है। उनके चरणों में इस फूल को चढ़ाने से मां प्रसन्न होती हैं और अपने भक्तों को आशीर्वाद देती हैं।
 
10 प्रिय फूल : प्रतिदिन इनमें से कोई एक फूल अर्पित कर सकते हैं- गुड़हल, गुलदाउदी, कमल, चमेली, चंपा, गेंदा, सेवंती, कृष्‍ण कमल, बेला और पीले या सफेद कनेर।
ये भी पढ़ें
नवरात्रि के 9 दिन ही क्यों होते हैं?