मौसम अपडेट : बिहार के 13 जिले बाढ़ से बेहाल, 130 लोगों की मौत, मप्र में भारी बारिश की चेतावनी

Last Updated: बुधवार, 31 जुलाई 2019 (10:58 IST)
दिल्ली-एनसीआर में आज शाम को हल्की बारिश होने और गरज के साथ छींटे पड़ने का पूर्वानुमान लगाया है। इस बारिश से लोगों को गर्मी से निजात मिलने के आसार हैं। वहीं दूसरी ओर बिहार के 13 जिलों में आई बाढ़ से अब तक 130 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 88.46 लाख आबादी प्रभावित हुई है। असम के 13 जिलों के 864 गांव बाढ़ से प्रभावित हैं। मध्य प्रदेश में बुधवार की सुबह से बादल छाए हुए हैं। राज्‍य में कई स्थानों पर भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है।
खबरों के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर में बुधवार को में नमी के साथ हल्की बारिश की संभावना है। शाम को हल्की बारिश होने और गरज के साथ छींटे पड़ने का पूर्वानुमान लगाया है। इस बारिश से लोगों को गर्मी से निजात मिलने के आसार हैं। राज्‍य के 13 जिलों में आई बाढ़ से अब तक 130 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 88.46 लाख आबादी प्रभावित हुई है। राजधानी पटना तथा इसके आसपास के क्षेत्रों में आज आंशिक बादल छाए हुए हैं, जबकि राज्य के उत्तर और पूर्वी इलाकों में बारिश के आसार हैं, हालांकि भारी बारिश की संभावना नहीं है।
Flood

बिहार के बाढ़ प्रभावित जिलों में राहत शिविर चलाए जा रहे हैं। बाढ़ प्रभावित इलाके में राहत एवं बचाव कार्य के लिए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की कुल 27 टीम, 876 मानव बल को लगाया गया है तथा 133 मोटरबोट का इस्तेमाल किया जा रहा है। कई नदियां बूढी गंडक, बागमती, अधवारा समूह, कमला बलान और खिरोही नदी विभिन्न स्थानों पर आज सुबह खतरे के निशान से ऊपर बह रही थीं। सभी नदियों के जलग्रहण क्षेत्रों में आज सुबह तक हल्की से साधारण बारिश की संभावना जताई गई है।

असम के 13 जिलों के 864 गांव बाढ़ से प्रभावित हैं। राज्‍य के धेमाजी, दरांग, बारपेटा, नलबाड़ी, चिरांग, गोलपाड़ा, कामरूप, कामरूप (एम), मोरीगांव, नगांव, गोलाघाट, जोरहाट और कछार जिले बाढ़ से प्रभावित हैं। कुल 417 राहत कैंप चलाए जा रहे हैं। इसमें 30925 लोगों ने शरण ले रखी है। राज्‍य की सभी प्रमुख नदियों में जल स्तर अब घटने लगा है। पिछले 24 घंटे में किसी के हताहत होने की सूचना नहीं मिली है।

उत्तर प्रदेश में मानसून की रफ्तार कुछ धीमी हुई है। इस कारण उमसभरी गर्मी का दौर शुरू हो गया है। हालांकि अगले दो-तीन दिन बारिश होने की संभावना जताई है। अगले दो-तीन दिन बादलों की आवाजाही के साथ बारिश होने की संभावना है। इसके अलावा कुछ स्थानों पर रुक-रुक कर बारिश हो सकती है। मानसूनी हवाओं ने पूरी तरह से क्षेत्र को अपने दबाव में ले रखा है। पूर्वी और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कुछ जगहों पर बिजली कड़कने के साथ बारिश के आसार हैं।
Flood

मध्य प्रदेश में बुधवार की सुबह से बादल छाए हुए हैं और गर्मी से राहत है। राज्‍य में कई स्थानों पर भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। राज्य में सक्रिय हुए मानसून ने बड़े हिस्से को तरबतर कर दिया है, में भी गिरावट आई है और गर्मी का असर कम हुआ है। आगामी 24 घंटों में राज्य के कई हिस्सों में सामान्य से भारी बारिश होने की चेतावनी जारी की है।

राजस्थान में पिछले तीन-चार दिन से चल रहा तेज बारिश का दौर अब धीमा पड़ गया है और पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम दर्जे की बारिश दर्ज की गई। पिछले 24 घंटों के दौरान चित्तौड़गढ़ के कपासन में 4 सेंटीमीटर, झालावाड़ के मनोहर थाना में 3 सेंटीमीटर जबकि कुछ अन्य स्थानों पर 2 सेंटीमीटर तक बारिश दर्ज की गई। आज सुबह से शाम तक कोटा में बूंदाबांदी दर्ज की गई। विभाग ने आगामी 24 घंटों के दौरान राज्य के कुछ स्थानों पर भारी बारिश होने की चेतावनी जारी की है।

हिमाचल प्रदेश के अधिकतर इलाकों में रात से बारिश का दौर जारी है। कई जगह जलभराव की खबरें हैं व कई सड़कें बंद हो गई हैं। आज राज्‍य के 6 जिलों चंबा, कांगड़ा, मंडी, शिमला, सोलन व सिरमौर में कुछ स्थानों पर भारी बारिश की संभावना जताई गई है। इस संबंध में यलो अलर्ट जारी कर लोगों को सचेत रहने के लिए कहा गया है। चंबा जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी कर लोगों को इन दो दिनों में एहतियात बरतने के निर्देश दिए हैं।

 

और भी पढ़ें :