गुरुवार, 25 जुलाई 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. राष्ट्रीय
  4. PM Narendra Modi made the impossible possible
Written By
Last Modified: शुक्रवार, 17 सितम्बर 2021 (19:46 IST)

नरेन्द्र मोदी ने वह कर दिखाया, दूसरे PM जिसकी हिम्मत नहीं कर पाए

नरेन्द्र मोदी ने वह कर दिखाया, दूसरे PM जिसकी हिम्मत नहीं कर पाए - PM Narendra Modi made the impossible possible
नई दिल्ली। भाजपा के अध्यक्ष जेपी नड्डा ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर उनके नेतृत्व की जमकर प्रशंसा की और जम्मू एवं कश्मीर से अनुच्छेद 370 निरस्त करने तथा तीन तलाक पर प्रतिबंध लगाने जैसे केंद्र सरकार के फैसलों का उल्लेख करते हुए दावा किया कि उन्होंने कई ऐसे काम कर दिखाएं हैं, जिन्हें कभी असंभव माना जाता था।
 
प्रधानमंत्री के जन्मदिन के अवसर पर नड्डा ने भाजपा के 20 दिनों के ‘सेवा और समर्पण’ अभियान की शुरुआत की। साथ ही गुजरात के मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री के रूप में मोदी के पिछले 7 साल को मिलाकर उनका 20 साल का कार्यकाल पूरा होने पर भाजपा इस अभियान के तहत कई कल्याणकारी कार्यक्रम चलाएगी।
 
नड्डा ने कहा कि एक निर्वाचित जनप्रतिनिधि के रूप में नरेंद्र मोदी का 20 वर्षों का कार्यकाल ‘सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास’ के प्रयासों से प्रभावित रहा है।
 
उन्होंने कहा कि मोदी ने बहुत से ऐसे कार्य किए हैं, जिनके बारे में कभी सोचा भी नहीं जा सकता था कि उन्हें कभी पूरा किया जाएगा। अनुच्छेद 370 को निरस्त करना, तीन तलाक पर रोक, अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण सुनिश्चित होना, आतंकवाद पर सर्जिकल और एयरस्टाइक होना, वन रैंक और वन पेंशन, 55 करोड़ नागरिकों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ...यह सभी काम प्रधानमंत्री ने पिछले सात सालों में किए हैं, जिन्हें असंभव समझा जाता था। उनके किसी भी पूर्ववर्ती प्रधानमंत्री ने ऐसा करने की हिम्मत नहीं की।
इस कड़ी में नड्डा ने हर घर बिजली, गैस, पानी पहुंचाने जैसी योजनाओं का भी उल्लेख किया और 10 करोड़ से अधिक किसानों को प्रति वर्ष दी जाने 6-6 हजार रुपए किसान सम्मान निधि का जिक्र किया। नड्डा ने कहा कि मोदी के नेतृत्व में देश विकास के पथ पर अग्रसर है और विश्व पटल पर भी भारत की साख में ‘अभूतपूर्व’ वृद्धि हुई है।
 
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने देश की राजनीतिक कार्य संस्कृति को भी बदलकर रख दिया है और आज उनके नेतृत्व में जातिवाद, परिवारवाद और तुष्टीकरण की राजनीति की जगह विकासवाद की राजनीतिक संस्कृति प्रतिष्ठित हुई है। उन्होंने दावा किया और देश के अन्य सभी राजनीतिक दलों को इस राह पर आगे बढ़ने के लिए विवश होना पड़ा है।
ये भी पढ़ें
श्रीनगर में आतंकी हमला, एक रेलवे पुलिसकर्मी शहीद