चीन को मिलेगा मुंहतोड़ जवाब, पूर्वी लद्दाख में LAC के करीब मिसाइल से लैस भारतीय सैनिकों की तैनाती

Last Updated: मंगलवार, 25 अगस्त 2020 (21:47 IST)
Border Tension : में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर और के
बीच तनाव लगातार बना हुआ है। अपने सैनिकों को पीछे हटाने को लेकर चीन भारत के साथ सैन्य स्तर की बातचीत तो करता है, लेकिन के
नजदीक उसकी सैन्य गतिविधियां लगातार जारी हैं।
सैन्य स्तर की बातचीत के बीच चीन ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के आसपास अपने इलाके में हेलीकॉप्टरों की आवाजाही बढ़ा
दी है। अब भारत ने भी वहां महत्वपूर्ण ऊंचाई पर कंधे से हवा में वार करने वाली वायु रक्षा मिसाइलों से लैस सैनिकों को तैनात किया है।
एएनआई की खबर अनुसार भारत ने पूर्वी लद्दाख बॉर्डर पर अपने जवानों को के साथ तैनात किया है। ये मिसाइल ऐसे समय में काम आती हैं, जब दुश्मन किसी भी तरह से हमारे एयरस्पेस में घुसने की कोशिश करता है तो उसे नाकाम किया जा सकता है।

इग्ला मिसाइल के जरिए कोई भी जवान कंधे से ही वार कर सकता है, जो कि हेलिकॉप्टर और फाइटर हेलिकॉप्टर को ढेर कर सकती हैं। इस मिसाइल सिस्टम से देश के जवानों को दुश्मनों को भारतीय एयरस्पेस में आने से रोकेने में सहायता मिलेगी।

खबरों के मुताबिक रूसी हवाई डिफेंस सिस्टम से लैस भारतीय सैनिकों को सीमा पर महत्वपूर्ण ऊंचाई पर तैनात किया गया है ताकि चीन की हर चाल पर नजर रखी जा सके। खबरों के मुताबिक पूर्वी लद्दाख सेक्टर में गलवान घाटी और पैट्रोलिंग पॉइंट 14 जैसे भारतीय क्षेत्रों में ये तैनाती की गई है।

भारतीय वायुसेना ने पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में चीनी हेलीकाप्टरों द्वारा संभावित हवाई क्षेत्र के उल्लंघन को विफल करने के लिए मई के पहले सप्ताह में Su-30MKI को तैनात किया था।

चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी एयर फोर्स (PLAAF) ने हाल के दिनों में कई ठिकानों को अपग्रेड किया है, जिसमें कठोर आश्रयों का निर्माण, रनवे की लंबाई का विस्तार और अतिरिक्त संचालन करने के लिए अतिरिक्त जनशक्ति की तैनाती शामिल है।



और भी पढ़ें :