भारतीय तटरक्षक का गश्ती पोत 'वराड' सेवा में शामिल

Varad vessel
पुनः संशोधित शुक्रवार, 28 फ़रवरी 2020 (15:11 IST)
चेन्नई। भारतीय तटरक्षक के गश्ती पोत 'वराड' को केंद्रीय जहाजरानी मंत्री मनसुख मांडवीय ने शुक्रवार को यहां सेवा में शामिल किया। लार्सन एंड टूब्रो लिमिटेड ने 98 मीटर लंबे जहाज को यहां कट्टुपल्ली में अपने यार्ड में तैयार किया है। इस पोत में अत्याधुनिक नौवहन एवं संचार उपकरण लगे हुए हैं।
मंत्री ने तटरक्षक के महानिदेशक के नटराजन, के प्रमुख पी. रवींद्रन और वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों की मौजूदगी में यहां चेन्नई पोर्ट ट्रस्ट पर पोत को सेवा में शामिल किया। मांडवीय ने एक फलक का भी अनावरण किया जिस पर पोत को सेवा में शामिल करने की तिथि अंकित थी।

तट से दूर खुले समुद्र में गश्त करने वाला यह 7 पोतों की श्रृंखला में पांचवां पोत है जिसके लिए एल एंड टी से करार हासिल करने में कामयाब रहा। एल एंड डी शिपबिल्डिंग लिमिटेड के प्रमुख एस कन्नन ने कहा कि सेवा में शामिल किए जाने से पहले पोत का कई बार परीक्षण किया गया है।

तटरक्षक महानिदेशक के. नटराजन ने कहा कि इस पोत से पहले आईसीजीसी वराड की पिछली पीढ़ी 28 वर्षों तक सेवा में रही। उन्होंने कहा कि आवंटित निधि का 90 प्रतिशत पोतों को स्वदेशी बनाने पर खर्च किया जाता है। पोत 30 एमएम और 12.7 एमएम बंदूकों से लैस है।


और भी पढ़ें :