2015 से 1,000 करोड़ रुपए से अधिक के घाटे में चल रही है DTC, दिल्ली सरकार ने दी जानकारी

Delhi Assembly
Last Updated: शनिवार, 31 जुलाई 2021 (19:01 IST)
मुख्य बिंदु
  • 1,000 करोड़ के घाटे में है DTC
  • दिल्ली विधानसभा ने दी जानकारी
  • लो फ्लोर बसों की खरीद का कार्य रोका
नई दिल्ली। (डीटीसी) 2015 से सालाना 1,000 करोड़ रुपए से अधिक के घाटे में चल रहा है और यह अपने मौजूदा बेड़े में एक भी बस जोड़ने में असमर्थ रहा है। आम आदमी पार्टी (आप) के नेतृत्व वाली दिल्ली सरकार ने उन खबरों का भी खंडन किया कि व्यापक वार्षिक रखरखाव अनुबंध के लिए डीटीसी द्वारा खरीदी जा रहीं 1,000 लो फ्लोर बसों के विनिर्माताओं को 1,000 करोड़ रुपए की अतिरिक्त राशि का भुगतान किया जाना है।
ALSO READ:

बाबुल सुप्रियो बोले- जा रहा हूं अलविदा... राजनीति से लेंगे संन्यास, सांसद पद भी छोड़ेंगे

दिल्ली सरकार के परिवहन विभाग ने विधानसभा में गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) विधायक विजेंद्र गुप्ता के एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह बात कही। दिल्ली विधानसभा का मानसून सत्र शुक्रवार को संपन्न हो गया। भाजपा विधायक अजय महावर के एक अन्य सवाल के जवाब में परिवहन विभाग ने कहा कि डीटीसी ने 2015 के बाद से कोई बस नहीं खरीदी है।


विभाग ने कहा कि हालांकि 'दिल्ली इंटीग्रेटेड मल्टी-मोडल ट्रांजिट सिस्टम' (डीआईएमटीएस) संचालित क्लस्टर योजना के तहत 2015 के बाद 1,387 बसों की खरीद की गई है। पिछले 6 वर्षों में डीटीसी को 2014-15 में 1,019.36 करोड़ रुपए, 2015-16 में 1,250.15 करोड़ रुपए, 2016-17 में 1,381.78 करोड़ रुपए, 2017-18 में 1,730.02 करोड़ रुपए और 2018-19 में 1,664.56 करोड़ रुपए का घाटा हुआ। इसने कहा कि 2019-20 के अनुमान के अनुसार घाटा 1,834.67 करोड़ रुपए था। डीटीसी द्वारा 1,000 लो फ्लोर बसों की खरीद का कार्य आदेश 2 विनिर्माताओं को जारी किया गया था, लेकिन परिवहन विभाग द्वारा प्रक्रिया को रोक दिया गया है।(भाषा)



और भी पढ़ें :