जब अटलजी के कहने पर दिलीप कुमार ने नवाज शरीफ को लगाई थी डांट...

पूर्व प्रधानमंत्री और 'भारत रत्न' अटल बिहारी वाजपेयी का जीवन निर्विवाद रहा। अटलजी के पूरे जीवन पर किसी भी प्रकार का व्यक्तिगत और राजनीतिक आरोप नहीं लगा। उनकी छवि बेदाग रही। अटलजी दिग्गज के बहुत करीब रहे। दोनों एक-दूसरे के इतने करीब थे कि अटल बिहारी वाजपेयी के लिए दिलीप कुमार ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री को डांट तक दिया था।

यह किस्सा कारगिल युद्ध के दौर का है। पाक के पूर्व विदेश मंत्री खुर्शीद कसूरी की किताब 'नाइदर अ हॉक नॉर अ डव' में लिखा है- एक बार जब जंग को खत्म करने के लिए अटल बिहारी वाजपेयी ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को फोन किया था और उनकी बात अभिनेता दिलीप कुमार से करवाई थी। नवाज दिलीप कुमार की आवाज सुनकर चौंक गए थे।

वाजपेयीजी ने फोन पर बात करने के दौरान अपनी लाहौर यात्रा का जिक्र करते हुए कारगिल युद्ध को लेकर शरीफ की आलोचना की। इसी के तुरंत बाद अटलजी ने दिलीप कुमार को फोन दे दिया और नवाज शरीफ से बात करने को कहा। दिलीप कुमार ने नवाज शरीफ से कहा- 'मियां साहब हम आपकी तरफ से ऐसी उम्मीद नहीं करते थे, क्योंकि आपने हमेशा कहा है कि आप भारत और पाकिस्तान के बीच शांति चाहते हैं।'

दिलीप कुमार ने नवाज शरीफ से कहा कि ‘मैं एक भारतीय मुसलमान के तौर पर आपको बताना चाहता हूं कि पाकिस्तान और भारत के बीच तनाव की स्थिति में भारतीय मुस्लिम बहुत असुरक्षित हो जाते हैं और उन्हें अपने घरों से भी बाहर निकलना मुश्किल लगता है, इसलिए हालात को काबू रखने में कुछ कीजिए।’

दिलीप कुमार मूलत: पाकिस्तान के पेशावर के रहने वाले हैं। दिलीप कुमार वर्ष 1997 में अटलजी के साथ बस से लाहौर गए थे। इसी वर्ष पाकिस्तान ने दिलीप को अपने सर्वोच्च सम्मान 'निशान ए इम्तियाज' से भी सम्मानित किया था।



और भी पढ़ें :