दुनिया अभी जीने लायक है

विजयशंकर चतुर्वेदी

WDWD
मैं सोचता था

पानी उतना ही साफ पिलाया जाएगा

जितना होता है झरनों का

चिकित्सक बिलकुल ऐसी दवा देंगे

जैसे माँ के दूध में तुलसी का रस

मैं जहर खाने जाऊँगा

तो रोक लेगा कोई

ड्रायवर मंजिल तक पहुँचा देगा

और मैं मार लूँगा एक नींद

घर पहुँचूँगा तो बाल-बच्चे मिलेंगे सही-सलामत

ट्रेन के सामने आ जाने पर

लगा दिया जाएगा ब्रेक ऐन मौके पर

और लोग डाँट पिलाएँगे-

WD|
'यह क्या नादानी है, दुनिया अभी जीने लायक है।'




और भी पढ़ें :