विराट बोले, ऑस्ट्रेलिया को दी कड़ी टक्कर

सिडनी| पुनः संशोधित शनिवार, 10 जनवरी 2015 (18:12 IST)
हमें फॉलो करें
सिडनी। विराट कोहली को हारने से ‘नफरत’ है, लेकिन भारतीय क्रिकेट कप्तान ने शनिवार को कहा कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला गंवाने से वे काफी निराश नहीं हैं, क्योंकि उनकी टीम ने कड़ी टक्कर पेश की और पूरी श्रृंखला के दौरान अपने इरादे और जज्बा दिखाया।
श्रृंखला के अंतिम 2 टेस्ट ड्रॉ कराने के बावजूद भारत को श्रृंखला में 0-2 से शिकस्त का सामना करना पड़ा लेकिन श्रृंखला में 692 रन बनाने वाले कप्तान कोहली ने कहा कि मेहमान टीम इसे संतोषजनक नतीजा मानती है।
 
कोहली ने एससीजी में यहां 5वें और अंतिम दिन चौथा टेस्ट ड्रॉ होने के बाद कहा कि इस श्रृंखला को कोई भी टीम जीत सकती थी। यहां तक कि शनिवार को भी हमें लगा कि हमारे पास मौका (जीत दर्ज करने का) है लेकिन ऑस्ट्रेलिया ने वापसी की। हमने पूरी श्रृंखला में ऑस्ट्रेलिया को कड़ी टक्कर दी। हमारे लिए श्रृंखला शानदार रही।
 
उन्होंने कहा कि पहले ही दिन से हम कड़ा क्रिकेट खेलना चाहते थे, टक्कर देना चाहते थे और लड़कों ने ऐसा ही किया। मुझे लगता है कि हमने जज्बे और धैर्य का मिश्रण पेश किया। अंतत: यह संतोषजनक नतीजा रहा लेकिन अगर हम जीत दर्ज करते तो बेहतर रहता।
 
कोहली ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया के 349 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए चाय के विश्राम तक वे इसे हासिल करने को लेकर सुनिश्चित नहीं थे।
 
कोहली ने कहा कि चाय तक हम शत-प्रतिशत सुनिश्चित नहीं थे कि हम लक्ष्य का पीछा करें या नहीं। विजय के आउट होने के बाद मैंने सोचा कि चलो जोखिम उठाया जाए। इस दौरान टीम ने जो इरादा और जज्बा दिखाया, वह महत्वपूर्ण था।
 
श्रृंखला में 4 शतक और एक अर्द्धशतक जड़ने वाले कोहली ने कहा कि उनकी टीम के लिए इस श्रृंखला में काफी सकारात्मक पक्ष रहे लेकिन अब भी बल्ले और गेंद से प्रदर्शन में निरंतरता लेने की जरूरत है।
 
फिलिप ह्यूज की मौत की घटना से उबरने और श्रृंखला जीतने के लिए ऑस्ट्रेलिया को श्रेय देते हुए कोहली ने कहा कि उस घटना (फिलिप ह्यूज की मौत) के बाद उन्होंने जिस तरह का प्रदर्शन किया वह तारीफयोग्य है। श्रृंखला के दौरान दोनों टीमों के खिलाड़ियों के बीच बहस पर कोहली ने कहा कि विरोधी टीम को उनकी टीम का सम्मान करना चाहिए।
 
इस स्टार बल्लेबाज ने कहा कि मुझे हार से नफरत है और यही निचोड़ है। हमें प्रतिस्पर्धी होना होगा। विरोधी टीम को हमारा सम्मान करना होगा। उन्हें हमें ऐसे युवाओं का समूह नहीं समझना चाहिए जिससे पार पाया जा सकता है।
 
कोहली ने कहा कि भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में अगले महीने से होने वाला विश्व कप जीत सकती है और टेस्ट और आगामी वनडे श्रृंखला में खेलने का अनुभव अहम साबित होगा।
 
कोहली ने कहा कि बेशक हम विश्व कप जीत सकते हैं। हमारे अंदर यह विश्वास है। हमने ऑस्ट्रेलिया में अच्छा क्रिकेट खेला है और इस अनुभव का विश्व कप में काफी फायदा मिलेगा।
 
भारतीय गेंदबाजों को श्रृंखला के दौरान संघर्ष करना पड़ा और वे मैच में ऑस्ट्रेलिया के 20 विकेट चटकाने और रन रोकने में विफल रहे। कोहली ने कहा कि उनकी टीम इस विभाग में ऑस्ट्रेलिया से सीख ले सकती है।
 
कोहली ने श्रृंखला के दौरान अपनी बल्लेबाजी पर कहा कि इंग्लैंड के बाद मुझे कुछ चीजों में सुधार करने की जरूरत थी और मैंने ऐसा किया। मैंने गेंदबाजों से एक कदम आगे रहने का प्रयास किया। जीत के लिए कुछ पारियां खेलना बेहतर होता लेकिन मैं अपने प्रदर्शन से संतुष्ट हूं।
 
ऑस्ट्रेलिया के कप्तान स्टीव स्मिथ ने कहा कि यह श्रृंखला कड़ी थी और अंतिम टेस्ट ड्रॉ कराने के लिए उन्होंने भारत को श्रेय दिया।
 
उन्होंने कहा कि शनिवार को हम लक्ष्य तक नहीं पहुंच पाए लेकिन मुझे लड़कों पर गर्व है। हमने काफी अच्छी श्रृंखला जीती और यही हमारे लिए सबसे महत्वपूर्ण चीज है। स्मिथ को श्रृंखला में 4 शतक और 2 अर्द्धशतक की मदद से 769 रन बनाने के लिए 'मैन ऑफ द सीरीज' चुना गया।
 
स्मिथ ने कहा कि हमारे लिए शनिवार का दिन कड़ा रहा। हमें असमान उछाल नहीं मिला जिसकी 5वें दिन की पिच पर उम्मीद की जा रही थी। कुछ मौकों का फायदा उठाने में हम विफल रहे। भारत ने शनिवार को जिस तरह खेलकर मैच ड्रॉ कराया उन्हें उसका पूरा श्रेय जाता है। (भाषा)



और भी पढ़ें :