कंगारू कप्तान और कीपर की गर्दन की हुई सर्जरी, फिर भी एशेज खेलने के लिए आशावादी

पुनः संशोधित शनिवार, 18 सितम्बर 2021 (20:21 IST)
कैनबेरा:ऑस्ट्रेलियाई टेस्ट क्रिकेट टीम के कप्तान गर्दन की सर्जरी के बावजूद इंग्लैंड के खिलाफ आगामी आठ दिसंबर को पहले टेस्ट के लिए फिट होने को लेकर आश्वस्त हैं।

पेन ने एक बयान में कहा, “ आठ दिसंबर को पहला एशेज टेस्ट है और मुझे पूरा विश्वास है कि इससे पहले मेरा जाना सही होगा। मुझे उम्मीद है कि इससे पहले मुझे तस्मानिया के लिए एक अभ्यास मैच खेलने को मिल जाएगा और यह भी उम्मीद है कि तीसरी जीत के अंत में एशेज में कुछ खास होगा। मैं अपने अंतरराष्ट्रीय करियर के बाद तस्मानिया के लिए खेलना जारी रखना चाहता हूं, इसलिए चोट को ठीक करना और इसका जड़ से इलाज करना दीर्घावधि के लिए सही निर्णय था। ”

समझा जाता है कि 36 वर्षीय पेन आठ दिसंबर को गाबा में इंग्लैंड के खिलाफ ऑस्ट्रेलियाई टीम का नेतृत्व करने के लिए फिट होने के लिए रिहैबिलिएटेशन शुरू करने से पहले दो हफ्ते तक आराम करेंगे।

उल्लेखनीय है कि दबी हुई नस के चलते डिस्क के बाहर आने से पेन के गर्दन और बाएं हाथ में दर्द हो रहा था, जिसके चलते इस हफ्ते उनकी सर्जरी की गई है। इस समस्या को ठीक करने के लिए सर्जन्स ने उनके गले में एक छेद किया है।

पेन ने सेन रेडियो शो में कहा, “ असल में डॉक्टरों ने मेरे गले में एक बड़ा छेद किया है और मेरे वॉयस बॉक्स को साइड में ले गए हैं। यह एक ऐसा तरीका है जिसमें बहुत कम दर्द होता है। ” पेन ने स्वीकार किया कि वह काफी परेशान हैं, लेकिन अन्य एथलीटों से बात करने के बाद अपने भविष्य के खेल के बारे में आशावादी हैं, जिनका उनके जैसा ऑपरेशन हुआ है।

कप्तान ने कहा, “ यह एक ऐसा निर्णय था जिसको लेकर मैं बहुत असमंजस में था। सोचता था कि सर्जरी न कराऊं या यह सोच कराने का जोखिम ले लूं कि मैं एशेज तक ठीक हो जाऊंगा। बहरहाल सर्जनों का काम देखने के बाद निर्णय से बहुत खुश हूं। मुझे अपने पूरे करियर में काफी संदेह हुए हैं इसलिए ये चीजें मेरे लिए नई नहीं हैं। मैं इसे क्रिकेट में वापसी के लिए प्रेरणा के रूप में इस्तेमाल करूंगा। ”

इस बीच इंग्लैंड ने एशेज के दौरान होने वाली परिस्थितियों में खिलाड़ियों के रहने को लेकर गंभीर चिंता जताई है, जिससे श्रृंखला के योजना के अनुसार आगे बढ़ने पर संदेह पैदा हो गया है, लेकिन पेन का मानना ​​है कि हालात कहीं भी उतने खराब नहीं होंगे जितना कि मेहमान इंग्लैंड को डर है।

पेन ने कहा, “ अंग्रेजी खिलाड़ियों के साथ सबसे बड़ी समस्या क्वारंटीन की है, लेकिन हम उन्हें ऐसा कुछ भी करने के लिए नहीं कह रहे हैं जो हम नहीं करेंगे। मुझे लगता है कि अगर हम उन्हें इस समस्या से निकाल दें तो उन्हें पता चलेगा कि ऑस्ट्रेलिया के कोविड हब के दौरान स्थितियां बहुत अच्छी हैं और चिंता की कोई बात नहीं है। ”
(वार्ता)



और भी पढ़ें :