विराट-अश्विन को काबू करना होगा अहम : स्‍टीवन स्मिथ

पुनः संशोधित मंगलवार, 14 फ़रवरी 2017 (19:19 IST)
मुंबई। ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ ने कहा है कि भारतीय जमीन पर सीरीज उनकी टीम के लिए निश्चित ही एक मुश्किल दौरा है और मेजबान टीम के कप्तान विराट कोहली तथा अनुभवी ऑफ स्पिनर सबसे बड़ी चुनौती होंगे जिन्हें रोकने के लिए  वे अलग योजना बनाकर आए हैं।
        
ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच चार टेस्टों की सीरीज होनी है जिसके लिए  सोमवार को टीम भारत पहुंच गई। यहां मंगलवार को अपने मेहमान टीम के कप्तान और कोच डैरेन लेहमैन ने माना कि यह सीरीज उनकी टीम के लिए चुनौती की तरह होगी लेकिन वे भी तैयारी के साथ पहुंचे हैं।
        
स्मिथ ने कहा, हम इस दौरे को लेकर बहुत उत्साहित हैं। हमारे लिए यह चुनौतीपूर्ण दौरा होगा। भारत दुनिया की नंबर वन टीम है, लेकिन हमारे खिलाड़ियों ने भी अपनी तैयारी पूरी की है और हम उम्मीद करते हैं कि सफलता हासिल करेंगे। उन्होंने साथ ही माना कि नंबर वन गेंदबाज और स्टार ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन के खिलाफ ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों की सफलता और विराट को उनके गेंदबाज का काबू करना इस सीरीज का परिणाम तय करेगा।
        
कप्तान ने कहा, हम विराट के खिलाफ गेम प्लान बना रहे हैं। मैं आपको इस बारे में नहीं बताऊंगा, लेकिन यह सच है कि वह विश्वस्तरीय बल्लेबाज हैं और पिछली चार सीरीज में चार शतक बना चुके हैं। वे भारत के मुख्य खिलाड़ी हैं और हमारे लिए चुनौती होंगे।
        
दुनिया के शीर्ष रैंकिंग बल्लेबाज स्मिथ ने भारतीय टीम में विराट के अलावा ऑफ स्पिनर अश्विन को भी चुनौती बताया। उन्होंने कहा कि अश्विन भी विश्वस्तरीय गेंदबाज हैं और उनके खिलाफ खेलना बल्लेबाजों के लिए बड़ी चुनौती होगी, लेकिन टीम ने ऑफ स्पिनर का सामना करने के लिए भी अलग से योजना तैयार की है।
        
उपमहाद्वीपीय पिचों पर स्पिनरों को सबसे खतरनाक माना जाता है और हालिया सीरीज में भारतीय स्पिनरों अश्विन तथा रवींद्र जडेजा को खासी सफलता मिली है, लेकिन स्मिथ ने कहा कि उनके हिसाब से स्पिनरों की तरह तेज गेंदबाजों को भी खेलना आसान नहीं होगा। उन्होंने कहा हमारे हिसाब से स्पिनर ही नहीं, बल्कि तेज गेंदबाज उमेश यादव, ईशांत शर्मा, भुवनेश्वर कुमार हमारे लिए  चुनौती पेश कर सकते हैं और उन्हें भी बराबर से ही चुनौती माना जा सकता है।      
        
ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने भारत के खिलाफ सीरीज के दौरान मैदान पर खिलाड़ियों के बीच छींटाकशी और जुबानी जंग से भी इंकार नहीं किया। उन्होंने कहा, हां, मेरा मानना है कि विपक्षियों पर दबाव बनाने में यह काम आता है और कुछ खिलाड़ियों को इसका फायदा भी मिलता है। लेकिन अंत में मैच जीतने के लिए  आपको प्रतिभा की जरूरत होती है। इन परिस्थितियों में यही जरूरी होगा। (वार्ता)



और भी पढ़ें :