टेस्ट ओपनर शुभमन गिल ने इंग्लैंड की पिचों पर बल्लेबाजी के लिए बनाई यह योजना

Shubman Gill
Last Updated: सोमवार, 24 मई 2021 (16:46 IST)
नई दिल्ली:का मानना है कि टीम न्यूजीलैंड के खिलाफ (डब्ल्यूटीसी) फाइनल के लिये बेहतर तैयारी नहीं कर सकती हैं लेकिन उन्होंने कहा कि की परिस्थिति​यों में सत्र दर सत्र खेलने पर ध्यान देना महत्वपूर्ण होगा।


गिल टीम के अन्य साथियों के साथ मुंबई में 14 दिन के पृथकवास पर हैं। पिछले साल ऑस्ट्रेलिया में पदार्पण करने के बाद सीनियर टीम के साथ यह उनका इंग्लैंड का पहला दौरा होगा।


गौरतलब है कि पृथ्वी शॉ की जगह टीम में चयन किए गए शुभमन गिल ने ऑस्ट्रेलिया में दूसरे टेस्ट से ही प्रभावित करना शुरु कर दिया था। शुभमन गिल ने 3 मैचों में 259 रन बनाए और चौथे टेस्ट की दूसरी पारी में सर्वाधिक 91 रन बनाए। यह सीरीज में किसी भी सलामी बल्लेबाज का सर्वाधिक स्कोर रहा। 146 गेंदो में खेली गई इस पारी में गिल ने 8 चौके और 2 छक्के लगाए थे।

हालांकि इंग्लैंड जब भारत दौरे पर आयी तो उनके बल्ले में वह बात नहीं दिखी। शुभमन गिल ने पहले टेस्ट की दूसरी पारी में एक अर्धशतक तो लगाया लेकिन कुल 4 मैचों में वह महज 20 की औसत से 119 रन बना सके। इस दौरे पर उनकी विफलता खली नहीं क्योंकि अन्य बल्लेबाजों ने उनकी कसर पूरी कर दी लेकिन इंग्लैंड के दौरे पर टीम को उनसे 100 प्रतिशत की उम्मीद होगी।
इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू श्रृंखला में वह अपेक्षित प्रदर्शन नहीं कर पाये थे लेकिन अब वह इसकी भरपायी करने के लिये तैयार हैं। इस दौरे की शुरुआत 18 जून को न्यूजीलैंड के खि​लाफ डब्ल्यूटीसी फाइनल से होगी जिसके बाद भारतीय टीम इंग्लैंड के खिलाफ पांच टेस्ट मैचों की श्रृंखला खेलेगी।
गिल ने इंडिया टीवी से कहा, 'हमने आस्ट्रेलिया में अच्छा प्रदर्शन किया। हम विदेशों में अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं और मुझे लगता है कि हम इस फाइनल के लिये बेहतर तैयारी नहीं कर सकते हैं। सलामी बल्लेबाज होने के नाते आपको केवल इंग्लैंड ही नहीं बल्कि विदेशों में सत्र दर सत्र खेलने में सक्षम होना चाहिए। ' उन्होंने कहा, 'एक बार में एक सत्र पर ध्यान देना महत्वपूर्ण होता है। इंग्लैंड में जब भी बादल छाये होते हैं तब गेंद अधिक स्विंग करती है और जब धूप खिली होती है तो बल्लेबाजी करना आसान होता है। एक सलामी बल्लेबाज के रूप में इन परिस्थितियों का आकलन करना महत्वपूर्ण है। '

कोविड काल में पृथकवास के बारे में गिल ने कहा, 'यह बेहद कड़ा है। आपको 14 दिन तक कमरे में रहना पड़ता है और आपके पास करने के लिये कुछ खास नहीं होता है। हमें हर दिन का कार्यक्रम सौंपा गया है और हम उसके अनुसार चलते हैं। हम स्वयं को फिल्में देखने में व्यस्त रखते हैं या कुछ समय आई पैड पर बिताते हैं लेकिन कुल मिलाकर यह बहुत कठिन है। ' अब तक सात टेस्ट मैच खेलने वाले गिल 2019 से टीम के साथ है लेकिन उन्हें दिसंबर में मेलबर्न में बॉक्सिंग डे टेस्ट मैच में पदार्पण का मौका मिला था।

टीम के साथ बिताये गये समय तथा कप्तान विराट कोहली और अपने सलामी जोड़ीदार रोहित शर्मा से बातचीत के बारे में गिल ने कहा, 'विराट भाई जब भी मुझसे खेल के बारे में बात करते हैं तो बेपरवाह होकर खेलने के लिये कहते हैं। वह मानसिकता के बारे में काफी बात करते हैं और अपने अनुभव साझा करते हैं।' उन्होंने कहा, 'और जब मैं रोहित भाई के साथ बल्लेबाजी कर रहा होता हूं तो हम अमूमन इस पर बात करते हैं कि गेंदबाज कहां गेंद करेगा, परिस्थिति कैसी है और उस आधार पर कब जोखिम लेना चाहिए और कब नहीं। '(भाषा)



और भी पढ़ें :