रोहित शर्मा के 264 रन भी कम पड़ गए

rohit sharma
Last Updated: शुक्रवार, 14 नवंबर 2014 (15:38 IST)
हमें फॉलो करें
कोलकाता। कोलकाता के में रोहित शर्मा मात्र 5 रनों से चूक गए। अगर रोहित का स्कोर 269 होता तो वे किसी भी तरह के में सबसे बड़े स्कोर के मामले में अव्वल होते। मुंबई के बैट्समैन रोहित शर्मा लिस्ट ए में इंग्लैंड के एलिस्टेयर ब्राउन के सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर के 268 रन से चूक गए। रोहित के पास आखिरी ओवर में यह रिकॉर्ड भी अपने नाम पर करने का मौका था लेकिन वे नुवान कुलशेखरा की पारी की आखिरी गेंद पर आउट हो गए। ब्राउन ने सर्रे की तरफ से ग्लेमोर्गन के खिलाफ 2002 में ओवल में यह रिकॉर्ड बनाया था।> >
हालांकि वे भारत की तरफ से लिस्ट ए में सबसे ज्यादा स्कोर का रिकॉर्ड अपने नाम पर करने में सफल रहे।  शिखर धवन का रिकॉर्ड तोड़ा जिन्होंने 12 अगस्त 2013 को भारत ए की तरफ से दक्षिण अफ्रीका ए के खिलाफ प्रिटोरिया में 248 रन बनाए थे। लिस्ट ए में अब दूसरा सर्वोच्च व्यक्तिगत स्कोर रोहित के नाम पर दर्ज है। रोहित ने अपनी पारी के दौरान 173 गेंदों का सामना किया। यह 50 ओवरों के मैच में सबसे अधिक गेंदों का सामना करने का नया रिकॉर्ड है।

इससे पहले कनाडा के आशीष बगई ने स्कॉटलैंड के खिलाफ 2007 में 172 गेंदें खेली थीं। इनके बाद डेविड बून का नंबर आता है जिन्होंने 1991 में ऑस्ट्रेलिया की तरफ से भारत के खिलाफ 168 गेंदों का सामना किया था। रोहित ने अपनी पारी में 33 चौके और नौ छक्के लगाए और इस तरह से कुल 186 रन केवल बाउंड्री से बनाए जो नया रेकॉर्ड है। उन्होंने आस्ट्रेलिया के शेन वॉटसन का रेकार्ड तोड़ा जिन्होंने बांग्लादेश के खिलाफ 2011 में ढाका में अपनी नाबाद 185 रन की पारी के दौरान 150 रन चौकों और छक्कों से बनाए थे।

रोहित से इस ऐतिहासिक पारी के बाद पूछा गया कि क्या वे थकान महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि वास्तव में नहीं। चोट के कारण मुझे आराम का मौका मिला था और मैं किसी तरह से थका हुआ नहीं हूं। मैं अगले 50 ओवर भी बैटिंग कर सकता हूं।'

सहवाग के बाद रोहित भारत के पहले ऐसे सलामी बल्लेबाज भी बन गए हैं जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 250 से अधिक का स्कोर बनाया। सहवाग ने हालांकि यह कारनामा टेस्ट मैचों में दिखाया है। अपनी रिकॉर्ड भरी पारी के दौरान रोहित शुरू में धीमा खेले। उन्होंने अपने शुरुआती 50 रन केवल 72 गेंद में बनाए लेकिन इसके बाद अगले 50 रन वह 28 गेंदों में बना गए। रोहित ने कहा कि एक बार जब मैंने हाफ सेंचुरी पूरी कर दी तो बड़ा स्कोर बनाने की ठान ली। मेरे लिए यह बहुत भाग्यशाली मैदान है। मैंने इसी मैदान पर टेस्ट में पदार्पण पर सेंचुरी मारी थी। दर्शक शुरू से मेरा हौसला बढ़ा रहे थे।  

दाएं हाथ के इस बैट्समैन ने 100 से 150 रन तक पहुंचने के लिए 25 और 150 से 200 रन तक पहुंचने के लिए 26 गेंद खेली लेकिन इसके बाद वह श्रीलंकाई गेंदबाज पर हावी हो गए। रोहित ने 200 से 250 रन तक पहुंचने के लिए 15 गेंद खेली। उन्होंने 152.60 की स्ट्राइक रेट से रन बनाए। इस पारी के दौरान भाग्य ने भी रोहित का साथ दिया। जब वह चार रन पर थे तब शमिंडा इरांगा की गेंद पर थर्ड मैन पर खड़े तिसारा परेरा ने उनका आसान कैच छोड़ा था। (भाषा)



और भी पढ़ें :