मिस्बाह फिर से सीखेंगे बल्लेबाजी की ए, बी, सी

कराची। पाकिस्तान के कप्तान मिस्बाह उल हक ने कहा है कि श्रीलंका में टीम के खराब प्रदर्शन का एक कारण उनका बल्ला न चलना रहा जिसके लिए वह अब अपनी बल्लेबाजी फॉर्म में सुधार करने की कोशिश करेंगे।

Misbah-ul-Haq
कराची| पुनः संशोधित बुधवार, 3 सितम्बर 2014 (18:43 IST)
कराची। के कप्तान ने कहा है कि श्रीलंका में टीम के खराब प्रदर्शन का एक कारण उनका बल्ला न चलना रहा जिसके लिए वह अब अपनी बल्लेबाजी फॉर्म में सुधार करने की कोशिश करेंगे।
मिस्बाह ने कहा कि मुझे ऐसा लगा रहा है कि मैंने बल्लेबाजी में कोई योगदान नहीं दिया, जो कि श्रीलंका में हमारे खराब प्रदर्शन का एक कारण रहा। मुझे कुछ आधारभूत चीजों पर काम करना चाहिए और जल्द से जल्द फॉर्म में वापसी करने की कोशिश करनी चाहिए।
 
उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान को हाल ही में श्रीलंका के हाथों टेस्ट सीरीज में 0-2 और वनडे सीरीज में 1-2 की शिकस्त झेलनी पड़ी थी जिससे पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) को वर्ष 2015 के विश्वकप के मद्देनजर टीम के प्रदर्शन को लेकर चिंता सताने लगी है। इसी संबंध में पीसीबी के नवनियुक्त अध्यक्ष शहरयार खान मिस्बाह और टीम के कोच वकार यूनिस के साथ मुलाकात की।
 
इस मुलाकात के बाद मिस्बाह ने कहा कि हमने भविष्य के बारे में और हमें विश्वकप के लिए कैसे तैयारी करनी चाहिए, इस बारे में बात की। हमने श्रीलंका में हुई सीरीज के बारे में बात की कि हमारा प्रदर्शन क्यों खराब था। कुल मिलाकर यह अच्छी मुलाकात रही।
 
40 वर्षीय मिस्बाह ने कहा कि मार्च में एशिया कप के बाद काफी अंतराल हो गया था और हमें अभ्यास करने का ज्यादा वक्त नहीं मिला। मुझे लगता है कि इस अंतराल ने हमारी लय को बिगाड़ दिया। यह भी हमारी हार का एक महत्वपूर्ण कारण रहा।
 
टेस्ट और वनडे दोनों ही फॉर्मेट में अच्छा प्रदर्शन करने वाले मिस्बाह ने श्रीलंका दौरे पर 4 टेस्ट पारियों में मात्र 67 रन बनाए और इतने ही रन 3 एकदिवसीय मैचों में बनाए। इस सीनियर बल्लेबाज को अपनी कप्तानी को लेकर काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है और साथ ही कप्तानी छोड़ने का दबाव भी है। मिस्बाह ने कहा कि अगर आप मेरे ऊपर दबाव की बात कर रहे हो तो मैं तनाव नहीं लेता, क्योंकि यह किसी भी समस्या का हल नहीं है।
 
उन्होंने कहा कि मैं हमेशा सकारात्मक रहने की कोशिश करता हूं चाहे कोई कुछ भी कहे लेकिन जब आप एक सीनियर खिलाड़ी की हैसियत से खेलते हो तो आपसे रन बनाने की उम्मीद होती है। श्रीलंका में मैं ऐसा नहीं कर सका। मैं अपने आपको जानता हूं और मैं अपनी फॉर्म में वापसी करने की कोशिश करूंगा।
 
वर्ष 2010 से पाकिस्तानी टीम की कप्तानी की कमान संभाले हुए मिस्बाह ने खिलाड़ियों के चयन संबंधी सवाल के बारे में पूछे जाने पर कहा कि मुझे लगता है कि आपको यह सवाल किसी और से पूछना चाहिए। मैं सिर्फ चयनकर्ताओं को अपने सुझाव दे सकता हूं। वे मुझे सुनते हैं, लेकिन कई बार टीम उस तरह की नहीं होती जैसा कि आप चाहते हो। (वार्ता)



और भी पढ़ें :