जिस आयरलैंड के बल्लेबाज ने इंग्लैंड के खिलाफ वनडे विश्वकप में खेली थी धुआंधार पारी, उसने लिया संन्यास

Last Updated: शुक्रवार, 18 जून 2021 (19:43 IST)
डबलिन: केे अनुभवी एवं स्टार ऑलराउंडर ने वनडे क्रिकेट से संन्यास ले लिया है। वह टेस्ट और टी-20 के लिए उपलब्ध रहेंगे। आयरलैंड क्रिकेट ने शुक्रवार को यह जानकारी दी है।केविन ओ ब्रायन ने
इंग्लैंड के खिलाफ वनडे विश्वकप 2011 में शतकीय पारी तब खेली थी जब टीम 300 से ज्यादा का स्कोर का पीछा करते हुए 5 विकेट गंवा चुकी थी। उनकी बैंगलोर के चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेले गए इस मैच में केविन की 63 गेंदो में 113 रनों की पारी जिसमें 13 चौके और 6 छक्के शामिल थे,
आज भी वनडे विश्वकप की अनोखी पारियों में शुमार है।

37 वर्षीय केविन ने अपना वनडे करियर आयरलैंड के तीसरे सर्वाधिक वनडे रन बनाने वाले बल्लेबाज के रूप में खत्म किया है। उन्होंने 153 वनडे मैचों में 29.41 के औसत और 88.72 के स्ट्राइक रेट के साथ 3618 रन बनाए हैं। वहीं उन्होंने 114 विकेटों और 68 कैचों के साथ वनडे क्रिकेट में आयरलैंड के सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज और कैच पकड़ने वाले खिलाड़ी की उपलब्धि भी प्राप्त की है।

केविन ने अपने संन्यास पर कहा, “ आयरलैंड के लिए 15 साल खेलने के बाद मुझे लगता है कि अब वनडे क्रिकेट से संन्यास लेने का सही समय है। 153 बार अपने देश का प्रतिनिधित्व करना एक सम्मान और सौभाग्य की बात है और जो यादें मैंने टीम से ली हैं वह जीवन भर रहेंगी। यह एक आसान फैसला नहीं रहा है, लेकिन लगातार विचार करने के बाद, मुझे नहीं लगता कि मैं एकदिवसीय टीम में उतना योगदान कर सकता हूं जितना पहले करता था। वनडे प्रारूप के लिए भूख और प्यार अब पहले जैसा नहीं रहा। एंड्रयू, ग्राहम, टीम और हमारे समर्थकों के लिए खेलना जारी रखना उचित नहीं होगा। ”

स्टार ऑल राउंडर ने कहा, “ 2006 से तीन विश्व कप, व्यक्तिगत सफलताएं और दुनिया भर में यात्रा करने और खेलने में समय बिताने जैसे टीम के साथ मेरे पास कुछ अविश्वसनीय पल हैं, लेकिन अब मैं अपना ध्यान केंद्रित करूंगा और टी-20 क्रिकेट के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध रहूंगा। अगले 18 महीनों में दो विश्व कप के साथ-साथ मेरे तीन टेस्ट मैच खेलने की उम्मीद है। ”

उल्लेखनीय है कि केविन के सबसे प्रसिद्ध और यादगार प्रदर्शनों में से एक आईसीसी विश्व कप 2011 में बेंगलुरु में इंग्लैंड के खिलाफ खेली गई 113 रनों की रिकॉर्ड तोड़ पारी थी। इस मैच में उन्होंने महज 50 गेंदों में अपना शतक पूरा किया था। उनकी यह पारी आज भी विश्व कप में सबसे तेज शतकीय पारी के रूप में बनी हुई है।
आयरलैंड के मुख्य कोच ग्राहम फोर्ड ने एक बयान में कहा, “ केविन ने आयरिश क्रिकेट के विकास में एक बहुत बड़ी भूमिका निभाई है और अंतरराष्ट्रीय स्तर, खास कर वनडे प्रारूप में नियमित रूप से अच्छा प्रदर्शन किया है। एकदिवसीय टीम के हिस्से के रूप में उनके साथ काम करना खुशी की बात है और वह पिछले कुछ वर्षों में टीम के कई साथियों के लिए एक सच्चे रोल मॉडल रहे हैं। मैं अन्य प्रारूपों में केविन के साथ काम करना जारी रखने के लिए उत्सुक हूं। बेशक एकदिवसीय क्रिकेट से दूर होने का उनका निर्णय दुखद है। वह आयरलैंड और दुनिया भर में वनडे क्रिकेट में एक अमिट विरासत छोड़ गए हैं। ”(वार्ता)



और भी पढ़ें :