सिडनी टेस्ट : नियमों से विवाद, रोहित शर्मा सहित 5 आइसोलेटेड खिलाड़ी टीम के साथ ही जाएंगे

Last Updated: रविवार, 3 जनवरी 2021 (18:38 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। भारत का ऑस्ट्रेलिया टूर कोरोना को लेकर बनाए नियमों को लेकर विवादों में आ गया है। ऑस्ट्रेलिया दौरे पर एहतियात के तौर पर आइसोलेशन में रह रहे 5 भारतीय खिलाड़ियों के साथ पूरी टीम श्रृंखला के तीसरे टेस्ट के लिए एक साथ चार्टर्ड विमान से सोमवार को मेलबर्न से सिडनी रवाना होगी।

भारतीय उपकप्तान रोहित शर्मा, ऋषभ पंत, शुभमन गिल, पृथ्वी साव और नवदीप सैनी के खिलाफ कोरोनावायरस से बचाव के लिए लागू जैव सुरक्षा प्रोटोकॉल के उल्लंघन को कथित तौर पर तोड़ने की जांच जारी है लेकिन उन्हें टीम के साथ यात्रा करने से नहीं रोका जाएगा।

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने रविवार को जारी मीडिया विज्ञप्ति में कहा कि वे इस मामले की जांच बीसीसीआई के साथ मिलकर कर रहे हैं।
यह मामला तब तूल पकड़ा जब नवलदीप सिंह नाम के एक प्रशंसक ने ट्विटर पर एक वीडियो साझा किया जिसमें ये पांचों एक इनडोर रेस्तरां में खाना खा रहे थे।


बीसीसीआई के एक अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर पीटीआई से कहा कि अगर आप क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (CA) के बयान को ध्यान से पढ़ेंगे तो उन्होंने कभी नहीं कहा कि यह एक उल्लंघन है। उन्होंने कहा कि वे यह निर्धारित करना चाहते हैं कि क्या यह उल्लंघन है।
उन्होंने बताया कि इसलिए टीम के साथ सिडनी जाने वाले इन पांच खिलाड़ियों पर कोई प्रतिबंध नहीं है। पूरी टीम कल दोपहर उड़ान भर रही है। यह पता चला है कि क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के इस मसले से निपटने के तरीके से भारतीय टीम खुश नहीं है।
सूत्र ने कहा कि उस प्रशंसक ने अगर सोशल मीडिया पर खिलाड़ी (पंत) को गले लगाने को लेकर झूठ नहीं बोला होता तो यह मामला बड़ा नहीं होता। खिलाड़ी अंदर इसलिए गए क्योंकि वहां बूंदाबांदी हो रही थी।
उन्होंने कहा कि उसने बिना अनुमति के वीडियो बनाया और फिर बिना किसी के कहे ही पब्लिसिटी के लिए बिल का भुगतान कर उसे सोशल मीडिया पर डाल दिया।

उन्होंने सवाल किया कि क्या आप यह कहना चाहते है कि क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ऐसे व्यक्ति के वीडियो के आधार पर निर्णय लेगा, जिसने पहले झूठ बोला और फिर अपने बयान से मुकर गया। इस पूरे मामले के बाद टीम के प्रशासनिक प्रबंधक गिरिश डोंगरे की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठ रहा है।
बीसीसीआई के एक अन्य अधिकारी ने कहा कि डोंगरे बीसीसीआई के कर्मचारी हैं और उन्हें कोविड-19 प्रोटोकॉल को लेकर टीम को संभालने के लिए रखा गया है।


उन्होंने कहा कि खिलाडियों के लिए प्रोटोकॉल की हर बात याद रखना जरूरी नहीं है। इस काम के लिए एक प्रोफेशनल टीम है, जिन्हें यह सुनिश्चित करना है कि हर नियम का पालन किया जाए। यह सुनिश्चित करने के लिए डोंगरे का कर्तव्य था कि खिलाड़ियों को बताया जाए कि वे एक इनडोर क्षेत्र में नहीं जा सकते।

ऑस्ट्रेलियाई मीडिया ने रविवार को दावा किया था कि ब्रिसबेन में क्वारंटीन के कड़े नियमों के कारण भारतीय टीम चौथे टेस्ट के लिए वहां की यात्रा नहीं करना चाहती है।

लेकिन यह पता चला है कि श्रृंखला का चौथा और आखिरी टेस्ट अपने तय कार्यक्रम 15 जनवरी से ब्रिसबेन के गाबा मैदान में ही खेला जाएगा।

न्यू साउथ वेल्स (सिडनी में तीसरे टेस्ट का स्थल) और क्वींसलैंड राज्य (ब्रिसबेन) सरकार के बीच कोविड-19 को लेकर सीमा प्रतिबंध एक समस्या है। सिडनी और आसपास के इलाकों में कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों के कारण क्वींसलैंड ने न्यू साउथ वेल्स से यात्रा करने वाले लोगों के लिए अपनी सीमाएं बंद कर दी हैं।
टेस्ट मैच हालांकि इसके लिए एक अपवाद होगा और खिलाड़ी आईपीएल जैसी सख्त बायो-बबल में रहेंगे।

बीसीसीआई ने अभी तक चौथे टेस्ट को ब्रिसबेन से सिडनी स्थानांतरित करने के बारे में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया से संपर्क नहीं किया है। बीसीसीआई के एक अधिकारी ने कहा कि स्थिति हमेशा बदल रही है। इसके लिए कुछ और दिन इंतजार करना चाहिए। (भाषा)



और भी पढ़ें :