INDvsSA : रोहित का दोहरा शतक, दक्षिण अफ्रीका का शीर्ष क्रम लड़खड़ाया

पुनः संशोधित रविवार, 20 अक्टूबर 2019 (17:24 IST)
रांची। रोहित शर्मा (Rohit Sharma) के टेस्ट क्रिकेट में पहले दोहरे शतक और अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) की सधी हुई शतकीय पारी के बाद तेज गेंदबाजों ने खराब मौसम के कारण खेल जल्दी समाप्त किए जाने से पहले दक्षिण अफ्रीका का शीर्षक्रम लड़खड़ाकर तीसरे और अंतिम टेस्ट क्रिकेट मैच के दूसरे दिन भारत का पलड़ा भारी रखा। भारत ने अपनी पहली पारी 9 विकेट पर 497 रन पर समाप्त घोषित की लेकिन लगातार दूसरे दिन तीसरे सत्र का खेल खराब मौसम से प्रभावित रहा।
दक्षिण अफ्रीका की पारी में केवल 5 ओवर फेंके गए लेकिन इस बीच भारत ने उसके दोनों सलामी बल्लेबाजों को पैवेलियन भेजा। अंपायरों ने जब दिन का खेल समाप्त घोषित करने का फैसला किया तब दक्षिण अफ्रीका 2 विकेट पर 9 रन बनाकर संघर्ष कर रहा था। इससे पहले रोहित टेस्ट और वनडे दोनों प्रारूपों में दोहरे शतक जड़ने वाले विशिष्ट क्लब में शामिल हुए। इस श्रृंखला में पहली बार सलामी बल्लेबाज के रूप में उतरे रोहित ने सुबह 117 रन से अपनी पारी आगे बढ़ाई और 255 गेंदों का सामना करके 212 रन बनाए, जिसमें 28 चौके और 6 छक्के शामिल हैं।

रोहित की शानदार पारी अजिंक्य रहाणे (115) के बेहतरीन प्रयास पर हावी हो गई। उन्होंने घरेलू सरजमीं पर पिछले 3 साल में अपना पहला और कुल 11वां टेस्ट शतक लगाया। उन्होंने अपनी पारी में 192 गेंदें खेलीं तथा 17 चौके और एक छक्का लगाया। रविंद्र जडेजा (51) ने छठे नंबर के साथ पूरा न्याय करके अर्धशतक पूरा किया, जबकि अंतिम क्षणों में उमेश यादव ने छक्कों की झड़ी लगाई और 10 गेंदों पर 5 छक्कों की मदद से 31 रन बनाए। भारतीय पारी समाप्त होने के बाद चाय के लिए विश्राम लिया गया लेकिन उसके बाद केवल 5 ओवर किए गए।

मोहम्मद शमी ने अपनी दूसरी गेंद पर ही डीन एल्गर (शून्य) को विकेट के पीछे कैच करा दिया। उनकी अतिरिक्त उछाल लेती गेंद एल्गर के दस्तानों को चूमकर रिद्धिमान साहा के सुरक्षित हाथों में पहुंची। उमेश यादव ने अगले ओवर में दूसरे सलामी बल्लेबाज क्विंटन डिकाक (4) को साहा के हाथों कैच कराया। इसके बाद खराब रोशनी के कारण विराट कोहली को तेज गेंदबाज हटाने पड़े। स्टंप उखड़ने के समय कप्तान फाफ डुप्लेसिस एक रन पर खेल रहे थे जबकि जुबैर हमजा को अभी खाता खोलना है।

भारत पहले दोनों टेस्ट मैच जीतकर श्रृंखला में पहले ही 2-0 से अजेय बढ़त हासिल कर चुका है लेकिन विश्व चैंपियनशिप के महत्वपूर्ण अंकों को ध्यान में रखते हुए यह मैच भी उसके लिए अहम है। इस श्रृंखला में 500 रन पूरे करने वाले रोहित ने फिर से अपनी बल्लेबाजी का जलवा दिखाया। एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 264 रन के विश्व रिकॉर्ड के साथ 3 दोहरे शतक लगाने वाले रोहित लंच के समय 199 रन पर खेल रहे थे। इसके बाद उन्होंने लुंगी एनगिडी पर छक्के से पूरा किया। वे छक्के से दोहरा शतक पूरा करने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज बन गए हैं।

मुंबई की जोड़ी रोहित और रहाणे ने 4 घंटे से अधिक समय क्रीज पर बिताया और इस बीच चौथे विकेट के लिए रिकॉर्ड 267 रन की भागीदारी की। इन दोनों ने अच्छे रन रेट से रन बनाए जिससे पहले दिन की बारिश के व्यवधान का भारतीय प्रगति पर खास प्रभाव नहीं पड़ा। पहले दिन केवल 58 ओवर का खेल हो पाया था। रहाणे को 105 रन के निजी योग पर हेनरिक क्लासेन ने जीवनदान दिया।

क्लासेन ने हालांकि इसके बाद अच्छा कैच लेकर इसमें सुधार किया और अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहे जार्ज लिंडे को पहला टेस्ट विकेट भी दिलाया। इसके बाद जडेजा ने अच्छी भूमिका निभाई। भारतीय बल्लेबाजों के लिए तेजी से रन बनाने के साफ निर्देश पहुंच गए थे और रोहित दूसरे सत्र में 15 मिनट से भी कम समय क्रीज पर रहे। उन्होंने कैगिसो रबाडा की गेंद पर फाइन लेग बाउंड्री पर कैच दिया।

रबाडा का यह प्रथम श्रेणी मैचों में 250वां विकेट था। जडेजा और साहा (24) के आउट होने के बाद उमेश ने जलवा दिखाया। रविचंद्रन अश्विन ने 14 रन बनाए। दक्षिण अफ्रीका की तरफ से अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहे जार्ज लिंडे सबसे सफल गेंदबाज रहे। उन्होंने 133 रन देकर 4 विकेट लिए। रबाडा ने 85 रन देकर 3 विकेट हासिल किए।




और भी पढ़ें :