बेली ने ऑस्ट्रेलियाई टी-20 टीम की कप्तानी छोड़ी

भाषा| पुनः संशोधित रविवार, 7 सितम्बर 2014 (14:58 IST)
हमें फॉलो करें
मेलबोर्न। जॉर्ज बेली ने अगले साल होने वाले विश्व कप की तैयारियों पर ध्यान देने और टेस्ट टीम में वापसी का अपना दावा मजबूत करने के लिए रविवार को ऑस्ट्रेलिया की ट्वेंटी-20 टीम का कप्तान पद छोड़ दिया।

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने यहां जारी बयान में कहा कि जॉर्ज बेली ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट पर ध्यान देने के लिए ऑस्ट्रेलिया के टी-20 कप्तान पद से इस्तीफा दे दिया है।

आईपीएल में किंग्स इलेवन पंजाब के कप्तान बेली ने इसके साथ ही पाकिस्तान के खिलाफ संयुक्त अरब अमीरात और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ घरेलू श्रृंखला के दौरान के टी-20 मैचों में नहीं खेलने का फैसला भी किया है।

उन्होंने हालांकि क्रिकेट से इस छोटे प्रारूप से संन्यास नहीं लिया है। वे आईपीएल में भी अपनी भूमिका पहले की तरह निभाते रहेंगे।
बेली ने कहा कि मैंने टी-20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में ऑस्ट्रेलिया की अगुवाई करने की जिम्मेदारी और सम्मान का भरपूर लुत्फ उठाया। निजी तौर पर मैं अपने वनडे क्रिकेट पर ध्यान देना चाहता हूं और लंबी अवधि का क्रिकेटर भी बनना चाहता है। मैं फिर से टेस्ट क्रिकेट खेलने के लिए मौके तलाशना चाहता हूं।

उन्होंने कहा कि टी-20 कप्तानी छोड़ने से मेरे पास कुछ टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच छोड़ने का विकल्प रहेगा। ऐसे में मैं इस सत्र में तस्मानिया की तरफ से अधिक 4 दिवसीय मैच खेल सकता हूं।
पिछले ढाई साल से टी-20 टीम के कप्तान रहे बेली के फैसले का मतलब है कि ऑस्ट्रेलिया को अब पाकिस्तान के खिलाफ श्रृंखला के लिए टी-20 के नए कप्तान की घोषणा करनी होगी। वह इस दौरे के लिए सोमवार को टीम घोषित कर सकता है।

सलामी बल्लेबाज एरोन फिंच कप्तानी की दौड़ में आगे माने जा रहे हैं। उन्हें टी-20 बिग बैश लीग में मेलबोर्न रेनेगेड्स की कप्तानी करने का अनुभव है।
बेली ने कहा कि वे इसलिए भी कप्तानी छोड़ रहे हैं ताकि क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया 2016 में होने वाले आईसीसी विश्व टी-20 के लिए नए कप्तान को तैयार कर सके।

उन्होंने कहा कि मेरी निगाहें भविष्य और 2016 के आईसीसी विश्व टी-20 पर भी है। मुझे लगा कि पद छोड़ने का यह सर्वश्रेष्ठ समय है जिससे नए कप्तान को इस पद के साथ सामंजस्य बिठाने का मौका मिलेगा। मेरी क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के साथ कई बार चर्चा हुई और उन्होंने मेरे फैसले का पूरा समर्थन किया।
बेली ने हालांकि साफ किया कि वे टी-20 में खेलना जारी रखेंगे। उन्होंने कहा कि टी-20 क्रिकेट के प्रति मेरा जुनून और प्रतिबद्धता पहले की तरह बनी रहेगी और मैं होबार्ट हरिकेन्स और किंग्स इलेवन पंजाब की तरफ से अपनी भूमिकाएं पहले की तरह निभाता रहूंगा।

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के मुख्य कार्यकारी जेम्स सदरलैंड ने बेली का अपनी सेवाओं के लिए आभार व्यक्त किया।

उन्होंने कहा कि जॉर्ज बेहतरीन नेतृत्वकर्ता था और किसी के लिए भी उनका स्थान लेना बड़ी जिम्मेदारी होगी। मैं खेल के सबसे छोटे प्रारूप में देश की कप्तानी में किए गए प्रयासों के लिए उनका आभार व्यक्त करता हूं। हम उनके फैसले का पूरा सम्मान करते हैं। बेली को 2011 में तब कप्तान बनाया गया था जबकि उन्होंने एक भी अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं खेला था।
उन्होंने टी-20 में कप्तान के रूप में ही शुरुआत की और अभी तक अपने सभी मैच इसी भूमिका में खेले। उनकी कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया ने 28 टी-20 मैच खेले जिनमें से 14 में उसने जीत दर्ज की जबकि 13 में उसे हार मिली। 1 मैच टाई रहा।

उन्होंने बल्लेबाज के रूप में टी-20 मैचों में 470 रन बनाए हैं जिसमें 2 अर्धशतक शामिल हैं। उनकी अगुवाई में ऑस्ट्रेलिया 2 बार टी-20 विश्व कप में खेला लेकिन दोनों अवसरों पर फाइनल में पहुंचने में नाकाम रहा। (भाषा)



और भी पढ़ें :