सुनील गावस्कर ने सुरेश रैना की पारी का माना लोहा

विदेशों में सर्वश्रेष्ठ पारियों में से एक

कार्डिफ| भाषा| पुनः संशोधित गुरुवार, 28 अगस्त 2014 (21:25 IST)
हमें फॉलो करें
FILE
कार्डिफ। भारत के दिग्गज बल्लेबाज ने इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे वनडे मैच में सुरेश रैना की मैच विजेता पारी की जमकर तारीफ करते हुए बाएं हाथ के इस बल्लेबाज की पारी को विदेशों में खेली गई सर्वश्रेष्ठ एकदिवसीय पारियों में से एक करार दिया।


गावस्कर ने एनडीटीवी से कहा, ‘आप इसको सर्वश्रेष्ठ पारियों में से एक आंक सकते हो। आप इसको विदेशों में खेली गई सर्वश्रेष्ठ पारी नहीं कह सकते। शीर्ष पर कपिल देव की 1983 विश्व कप में जिम्बाब्वे के खिलाफ खेली गई 175 रन की पारी है। पिच पर तब वर्तमान पिचों की तुलना में काफी घास थी और भारत का स्कोर पांच विकेट पर 17 रन था। इसलिए रैना की पारी विदेशी परिस्थितियों में खेली गई सर्वश्रेष्ठ पारियों में से एक है।’
रैना ने अपना चौथा वनडे शतक लगाया। उन्होंने 75 गेंदों पर 100 रन बनाए जिससे भारत ने इंग्लैंड को डकवर्थ लुईस पद्वति से 133 रन से हराया। गावस्कर ने कहा कि रैना ने पारी के दौरान अपनी परिपक्वता दिखाई। उन्होंने कहा, ‘फिर से जिस तरह से उन्होंने बल्लेबाजी में अपना तालमेल बिठाया, जिस तरह से उन्होंने अपने बल्ले की तेजी से सामंजस्य बिठाया उससे उनकी परिपक्वता का पता चलता है।’

उन्होंने कहा, ‘सबसे अहम बात है यह है कि वे परिस्थितियों का स्वयं आकलन करते हैं और उस हिसाब से बल्लेबाजी करते हैं। पहले उन्होंने सतर्कता बरती और जब उन्हें लगा कि अब बड़े शॉट लगाने चाहिए तब उन्होंने ऐसा किया। उन्होंने शानदार बल्लेबाजी की।’


रैना टेस्ट टीम में शामिल नहीं थे जिसे इंग्लैंड के हाथों 1-3 से हार का सामना करना पड़ा। गावस्कर का मानना है कि ऐसा खिलाड़ी जो कि पराजित टीम का हिस्सा नहीं था, का होना फायदेमंद है। गावस्कर ने कहा, ‘मेरा शुरू से मानना है कि जब आप बहुत बुरी तरह हारते हो तो टीम को कुछ ऐसे खिलाड़ियों की जरूरत होती है जो हार के इस दर्द से नहीं गुजरे हों।’
धोनी ने कहा, रैना पांचवें नंबर पर ही बल्लेबाजी करेंगे : इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे वनडे में सुरेश रैना को पांचवें नंबर पर बल्लेबाजी के लिए भेजना भारत के लिए फायदेमंद साबित हुआ और लगता है कि भारतीय टीम प्रबंधन मध्यक्रम के इस बल्लेबाज के क्रम में किसी तरह का बदलाव करने के मूड में नहीं है।

भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से जब रैना के बल्लेबाजी क्रम के बारे में पूछा गया, उन्होंने कहा, ‘हां, रैना पांचवें नंबर पर ही बल्लेबाजी करेंगे। हम इसी तरह से आगे बढ़ेंगे।’
उन्होंने कहा, ‘यदि तीन या चार ओवर बचे हों तो मैं ऊपरी क्रम में आ सकता हूं लेकिन यदि कार्डिफ जैसी परिस्थितियां रहती हैं तो 100 में से 98 मैचों में वे पांचवें नंबर पर बल्लेबाजी के लिए आएंगे। अजिंक्य रहाणे चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करेंगे।’

धोनी ने कहा, ‘यह हालांकि मैच पर निर्भर करता है। यदि वह हमारे लिए बेहद महत्वपूर्ण मैच हो या कोई फार्म में नहीं चल रहा हो तो फिर फार्म में चल रहे बल्लेबाज को ऊपरी क्रम में भेजने पर विचार करेंगे ताकि वह अधिक गेंदों का सामना करके अधिक रन बनाए। लेकिन यदि तय क्रम की बात करें तो रैना पांचवें नंबर पर बल्लेबाजी करेंगे। मेरा मानना है कि वे वहां वास्तव में अच्छा प्रदर्शन करते हैं।’ (भाषा)



और भी पढ़ें :