0

लाल किताब में गुड़ खाने का क्यों बोला जाता है?

शनिवार,जून 12, 2021
0
1
लाल किताब या ज्योतिष के अनुसार सोना किसे पहनना चाहिए और किसे नहीं इसका उल्लेख मिलता है। हालांकि यहां पर सोना कुंडली की स्थिति जानकर ही पहनेंगे तो फायदे में रहेंगे अन्यथा नुकसान होगा और आप पछताएंगे भी।
1
2
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार ज्येष्ठ माह की अमावस्या को शनिदेवजी का जन्म हुआ था। अंग्रेजी माह के अनुसार इस बार शनि जयंती 10 जून 2021 गुरुवार को मनाई जाएगी। यह दान-पुण्य, श्राद्ध-तर्पण पिंडदान की अमावस्या भी है। इसी दिन सावित्री व्रत भी रखा जाएगा। आओ ...
2
3
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार ज्येष्ठ माह की अमावस्या को शनिदेवजी का जन्म हुआ था। अंग्रेजी माह के अनुसार इस बार शनि जयंती 10 जून 2021 गुरुवार को मनाई जाएगी। यह दान-पुण्य, श्राद्ध-तर्पण पिंडदान की अमावस्या भी है। इसी दिन सावित्री व्रत भी रखा जाएगा। आओ ...
3
4
लाल किताब में शनि ग्रह की स्थिति और प्रभाव के संबंध में आम ज्योतिष से कुछ अलग ही उल्लेख मिलता है। प्रत्येक खाने के अनुसार ही शनि के प्रभाव को जानकर उससे मुक्त होने के उपाय बताए जाते हैं। 10 जून 2021 गुरुवार को ज्येष्ठ माह की अमावस्या को शनिदेवजी की ...
4
4
5
जन्म से लेकर 48 वर्ष की उम्र तक सभी ग्रहों का उम्र के प्रत्येक वर्ष में अलग-अलग प्रभाव होता है। उनमें से नौ ऐसे विशेष वर्ष होते हैं, जो ग्रह से संबंधित वर्ष माने गए हैं जिन पर उस ग्रह का शुभ या अशुभ प्रभाव विशेष रूप से रहता है। लाल किताब अनुसार शनि ...
5
6
लाल किताब के अनुसार हमारे जीवन में पेड़, पौधे या वृक्षों का बहुत अधिक महत्व होता है। यदि यह घर की उचित दिशा में नहीं लगे हैं तो यह आप पर सकारात्मक प्रभाव डालते हैं और अनुचित दिशा में लेग हैं तो नकारात्मक भी। दूसरा यह कि आपकी कुंडली के अनुसार यदि ...
6
7
लाल किताब के अनुसार शनि ग्रह के कारण निर्दयता का ऋण बनता है। यदि आपकी कुंडली में शनि के भावों में बलशली होकर सूर्य, मंगल और चंद्र आए हो तो यह निर्दयता के ऋण को दर्शाता है। आओ जानते हैं कि इस ऋण के लक्षण क्या है। लक्षण जानकर ही उपाय करना चाहिए।
7
8
लाल किताब के फ़रमान नम्बर 10 के मुताबिक कुंडली में जब दो ग्रह एक साथ बैठे हो तो उन्हें मनसुई ग्रह कहते हैं। इन मनसुई ग्रहों को बनावटी या नकली ग्रह भी कहते हैं। यह ऐसा ही है जैसे कि लाल और हरा मिलकर भूरा रंग बन जाता है। पीला और नीला रंग मिलकर हरा बन ...
8
8
9
परंपरागत फलित ज्योतिष में कुंडली में गुरु और सूर्यआदि की स्थिति मानकर ही पितृदोष माना जाता है, परंतु लेकिन लाल किताब में कुंडली के अनुसार तो पितृदोष होता ही है साथ ही इसके और भी कई कारण होते है। यदि आपको लगता है कि आपकी कुंडली में पितृ दोष या ...
9
10
लाल किताब के अनुसार बुधवार का दिन माता दुर्गा का दिन माना जाता है। पुराणों अनुसार बुध ग्रह का वाहन सिंह है और इनकी तुलना शक्ति से की गई है। जिस प्रकार भक्तों का दुख: हरने हेतु भगवती दुर्गा सिंह पर सवार होकर विचरण करती रहती हैं उसी प्रकार बुध भी अपने ...
10
11
लाल किताब में परंपरागत और स्थानीय संस्कृति के अनुभवों पर आधारित उपाय बताए गए हैं। इसमें एक और जहां वास्तुशास्त्र की बात की गई है तो दूसरी ओर सामुद्रिक विज्ञान को बताया गया है। आओ जानते हैं कि ऐसे कौन से 10 उपाय हैं जिन्हें करने से घोर संकट से बचा जा ...
11
12
कई बार ऐसा होता है कि रोग तो कोई है ही नहीं फिर भी व्यक्ति बीमार सा ही रहता है। जैसे पेट में किसी भी प्रकार की समस्या नहीं है तब भी पेट दुखता रहता है। इसके अलावा कई बार यह भी होता है कि लोग किसी गंभीर बीमारी की चपेट में आ जाते हैं। कुछ लोग अस्पताल ...
12
13
बुध ग्रह हमारी बुद्धि का कारण है, लेकिन जो ज्ञान हमारी बुद्धि के बावजूद पैदा होता है उसका कारण राहु है। जैसे मान लो कि अकस्मात हमारे दिमाग में कोई विचार आया या आइडिया आया तो उसका कारण राहु है। राहु हमारी कल्पना शक्ति है तो बुध उसे साकार करने के लिए ...
13
14
लाल किताब में चांदी के बहुत से उपाय बताए गए हैं। चांदी के इन उपायों से धन, समृद्धि, शांति और सेहत बढ़ती है। घटना-दुर्घटना, गृहकलह और ग्रह-नक्षत्र के दुष्प्रभाव से बच जाते हैं। लेकिन निम्न उपाय लाल किताब के किसी विशेषज्ञ से पूछकर ही करें। आओ जानते ...
14
15
लाल किताब में परंपरागत और स्थानीय संस्कृति के अनुभवों पर आधारित उपाय बताए गए हैं। इसमें एक और जहां वास्तुशास्त्र की बात की गई है तो दूसरी ओर सामुद्रिक विज्ञान को बताया गया है। आओ जानते हैं कि ऐसे कौन से 30 उपाय हैं जिन्हें करने से हर तरह के संकट दूर ...
15
16
लाल किताब के अनुसार बुधवार का दिन माता दुर्गा का दिन माना जाता है। पुराणों अनुसार बुध ग्रह का वाहन सिंह है और इनकी तुलना शक्ति से की गई है। जिस प्रकार भक्तों का दुख: हरने हेतु भगवती दुर्गा सिंह पर सवार होकर विचरण करती रहती हैं उसी प्रकार बुध भी अपने ...
16
17
लाल किताब के अनुसार आचरण का शुद्ध होना जरूरी है। अन्यथा धन, संपत्ति, बरकत तो चली ही जाती है साथ ही रोग और शोक भी पीछा पकड़ लेते हैं। इसीलिए कुछ नियमों का पालन करना जरूरी है। आओ जानते हैं नियमों को।
17
18
जन्म से लेकर 48 वर्ष की उम्र तक सभी ग्रहों का उम्र के प्रत्येक वर्ष में अलग-अलग प्रभाव होता है। उनमें से 9 ऐसे विशेष वर्ष होते हैं, जो ग्रह से संबंधित वर्ष माने गए हैं जिन पर उस ग्रह का शुभ या अशुभ प्रभाव विशेष रूप से रहता है। लाल किताब अनुसार ...
18
19
राहु के कारण जीवन में अचानक आने वाली घटना और दुर्घटनाएं बढ़ जाती हैं। कई बार अचानक कोई रोग उत्पन्न होता है व्यक्ति अस्पताल में भर्ती हो जाता है। राहु के कारण जातक पागलपन का भी शिकार हो जाता है। लाल किताब के वस्तु के अनुसार यूं तो राहु की स्थिति कई ...
19