मंगलवार, 16 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. खेल-संसार
  2. आईपीएल 2020
  3. आईपीएल न्यूज़
  4. Mumbai Indians get IPL champion for the 5th time
Written By
Last Updated : बुधवार, 11 नवंबर 2020 (08:15 IST)

IPL-13 : रोहित शर्मा ने कहा- 'जीत की जिद' ने मुंबई को 5वीं बार आईपीएल चैम्पियन बनाया

IPL-13 : रोहित शर्मा ने कहा- 'जीत की जिद' ने मुंबई को 5वीं बार आईपीएल चैम्पियन बनाया - Mumbai Indians get IPL champion for the 5th time
दुबई। मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) के कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने इंडियन प्रीमियर लीग (IPL-13) का खिताब जीतने पर खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि 'जीत की जिद' की आदत बनाए रखने का ही नतीजा है कि हम 5वीं बार चैम्पियन बने हैं।  
 
मुंबई ने फाइनल में दिल्ली कैपिटल्स को 5 विकेट से हराकर लगातार दूसरी बार और पिछले 8 साल में 5वीं बार आईपीएल का खिताब जीता और रोहित ने कहा कि पूरे सत्र में वह टीम के प्रदर्शन से खुश हैं।
 
रोहित ने कहा, ‘मैंने टूर्नामेंट के शुरू में कहा था कि हमें जीत की आदत बनाए रखने की जरूरत है। हम इससे अधिक की उम्मीद नहीं कर सकते थे। हमने पहली गेंद से अपने प्रयास शुरू किए और फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा। इस जीत का श्रेय हमारे सपोर्टिंग स्टाफ को भी जाता है, जिन्होंने कड़ी मेहनत की है।' 
 
उन्होंने कहा, ‘मुझे खिलाड़ियों से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करवाने के लिए उचित संतुलन तलाशना था। मैं उन कप्तानों में नहीं हूं, जो खिलाड़ियों के पीछे पड़ा रहे। उनमें आत्मविश्वास भरना महत्वपूर्ण है। क्रुणाल, हार्दिक और पोलार्ड लंबे समय से अपनी भूमिका निभा रहे हैं और वे जानते हैं कि उन्हें क्या करना है।’
मुंबई इंडियंस ने फाइनल में राहुल चाहर को अंतिम एकादश में नहीं रखा और रोहित ने इसे रणनीतिक फैसला बताया। उन्होंने कहा, ‘राहुल आज नहीं खेल पाए और ऐसे में यह सुनिश्चित करना जरूरी था कि वह यह समझे कि उन्होंने कुछ गलत नहीं किया और यह रणनीतिक चाल थी। हमने यह भी सुनिश्चित किया कि सूर्य कुमार यादव और ईशान किशन पूरे आत्मविश्वास के साथ खेलें।’
 
रोहित को रन आउट होने से बचाने के लिए सूर्यकुमार ने अपना विकेट गंवाया, इस बारे में मुंबई के कप्तान ने कहा, ‘वह जिस तरह की फॉर्म में है, मुझे उनके लिए अपना विकेट गंवाना चाहिए था, लेकिन पूरे टूर्नामेंट में उसने बेहतरीन बल्लेबाजी की।’
 
मुंबई के कोच महेला जयवर्धने ने कहा कि उन्होंने खिलाड़ियों पर शुरू से किसी तरह का दबाव नहीं बनाया और उन्हें स्वच्छंद होकर खेलने की छूट दी। जयवर्धने कहा, ‘हमने बहुत अच्छी तैयारियां की थी और हमने चीजों को अच्छी तरह से व्यवस्थित किया और यह सुनिश्चित किया कि खिलाड़ियों पर किसी तरह का दबाव नहीं बने। लंबे शॉट लगाना मुंबई के डीएनए में है। हमने इस बार संतुलन स्थापित करने की कोशिश की।’
 
उन्होंने कहा, ‘मेरा काम खिलाड़ियों की मदद करने और उन्हें उनकी भूमिका समझाने की है। हमारी टीम में कई नेतृत्वकर्ता है और शानदार सहयोगी स्टाफ है, जिन्होंने हर समय मदद की।’
ये भी पढ़ें
बोले दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान अय्यर, फाइनल में पहुंचना छोटी उपलब्धि नहीं, अपने खिलाड़ियों पर गर्व