इसलिए हैं धोनी क्रिकेट के किंग, फिर जीत लिया विरोधी टीम और दर्शकों का दिल

वेबदुनिया न्यूज डेस्क| Last Updated: शनिवार, 26 सितम्बर 2020 (00:59 IST)
दुबई। भले ही 2020 के सातवें मैच में तीन बार की चैम्पियन (CSK) की टीम (Delhi Capitals) के हाथों बुरी तरह 44 रन से अपना मैच हार गई हो लेकिन मैच में कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) ने जो आदर्श पेश किया, उसने न केवल विरोधी टीम का बल्कि टीवी पर मैच देख रहे करोड़ों दर्शकों का दिल जीत लिया। धोनी की इसी सदाशयता के कारण 'क्रिकेट के किंग' माने जाते हैं।
धोनी की दरियादिली शुक्रवार को तब देखने को मिली, जब दिल्ली कैपिटल्स की टीम टॉस हारने के बाद पहले बल्लेबाजी कर रही थी। सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ चेन्नई के धुरंधर गेंदबाजों की धुनाई कर रहे थे। तभी अचानक उनकी आंख में कुछ आ जाने से परेशानी हुई। धोनी ने तुरंत अपने दस्ताने उतारे और फौरन पृथ्वी की आंख की परेशानी दूर कर दी।
मैदान पर ऑफिशियल कैमरों में धोनी की यह उदारता कैद हो गई। आईपीएल के ऑफिशियल ट्‍विटर पर साझा की गई यह तस्वीर काफी

खूब वायरल हो रही है। क्रिकेट के फैन्स धोनी के इस कार्य को 'स्पिरिट ऑफ क्रिकेट' का नाम दे रहे हैं। धोनी हमेशा मैदान पर दोस्ताना व्यवहार करते नजर आते हैं। विरोधी टीम के खिलाड़ी को तकलीफ होने पर फौरन उसकी मदद के लिए सबसे आगे आते हैं। जैसा कि उन्होंने पृथ्वी शॉ के साथ किया।
ALSO READ:
2020 Score : दिल्ली कैपिटल्स की युवा ब्रिगेड की अनुभवी पर 44 रनों से बड़ी जीत
इस मैच में पृथ्वी शॉ 43 गेंदों पर 9 चौकों व 1 छक्के की मदद से 64 रन की पारी खेली, जिसकी बदौलत दिल्ली की टीम 20 ओवर में 3 विकेट खोकर 175 रन बनाने में सफल रही। पृथ्वी ने आईपीएल में यह पांचवां अर्धशतक जड़ा उन्होंने सलामी बल्लेबाज शिखर धवन (35) के साथ 94 रनों की साझेदारी करके मजबूत नींव रखी। कप्तान 26 और ऋषम पंत नाबाद 37 रन बनाने में कामयाब रहे।
जीत के लिए चेन्नई को 176 रनों का लक्ष्य मिला था लेकिन पूरी टीम 20 ओवर में 7 विकेट खोकर 131 रन ही बना सकी। फाफ डू प्लेसिस 43 रन बनाकर टॉप स्कोरर रहे जबकि केदार जाधव ने 26 और धोनी ने 15 रनों का योगदान दिया।
ALSO READ:
: धोनी ने एक पूरी पीढ़ी को प्रेरित किया, उनकी कमी खलेगी : ICC
रबाडा ने 26 रन देकर 3 और एनरिच 31 रन देकर 2 विकेट लेने में सफल रहे। टूर्नामेंट के तीन मैचों में चेन्नई की यह दूसरी हार है जबकि दिल्ली की 2 मैचों में दूसरी जीत है। वह भी तब जबकि कंधे की चोट के कारण रविचंद्रन अश्विन मैदान से बाहर थे।



और भी पढ़ें :