कराची विमान हादसा : पाकिस्तानी सेना ने कहा- 97 शव बरामद, 2 यात्री जीवित

पुनः संशोधित शनिवार, 23 मई 2020 (23:10 IST)
कराची। में शुक्रवार को हुए विमान हादसे में 3 बच्चों समेत 97 लोगों की हो गई और 2 लोग चमत्कारिक ढंग से बच गए। हादसे के बाद से बचाव अभियान में जुटी सेना ने शनिवार को यह जानकारी दी।का एक यात्री विमान शुक्रवार को यहां जिन्ना अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे के पास घनी आबादी वाले रिहाइशी इलाके में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था।
वहीं पाकिस्तान एयरलाइन्स के पायलट्स एसोसिएशन (पालपा) ने हादसे की विस्तृत जांच की मांग की है लेकिन विमानों का परिचालन जारी रखने की प्रतिबद्धता भी जताई है। लाहौर से आ रहा विमान पीके-8303 शुक्रवार दोपहर कराची के जिन्ना अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर उतरने से कुछ मिनट पहले मालिर में मॉडल कॉलोनी के निकट जिन्ना गार्डन में दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इस दौरान जमीन पर मौजूद 11 लोग भी घायल हो गए।

राहत एवं बचाव कार्य की अगुवाई कर रही पाकिस्तानी सेना ने कहा कि 97 शव बरामद कर लिए गए हैं और 2 यात्री इस दुर्घटना में जीवित बच गए हैं। सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल बाबर इफ्तिखार ने ट्वीट किया, सेना के तलाश एवं बचाव दल, सैनिकों, रेंजरों और सामाजिक कल्याण संगठनों द्वारा बचाव अभियान जारी है। 97 शव मिले हैं और दो यात्री जीवित हैं। प्रभावित हुए 25 घरों के मलबे को हटाया गया है, उनमें रह रहे लोगों को नगर प्रशासन की मदद से विभिन्न स्थानों पर ठहराया गया है।

उड्डयन मंत्री गुलाम सरवर खान ने कहा कि दुर्घटना की जांच जल्द से जल्द पूरी की जाएगी।उन्होंने कहा, मैं व्यक्तिगत रूप से पूरी प्रक्रिया का पर्यवेक्षण करूंगा और दुर्घटना के लिए जिम्मेदार ठहराए गए किसी भी व्यक्ति को हम नहीं बख्शेंगे। उन्होंने कहा, हम कोशिश करेंगे कि रिपोर्ट तीन महीने में पूरी हो जाए।उन्होंने कहा कि पीड़ितों के लिए मुआवजा दोगुना करके 10,00,000 रुपए किया गया है, जिसे दुर्घटना में मारे गए लोगों के परिजनों को प्रदान किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि बीमा की राशि भी अलग से दी जाएगी और जल्द से जल्द उसका भुगतान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जमीन पर जिन लोगों की संपत्ति को नुकसान हुआ है, उन्हें भी मुआवजा दिया जाएगा। पीआईए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अरशद मलिक ने कहा कि 21 शवों को उनके परिजनों को सौंप दिया गया है। डीएनए मिलान के बाद अन्य 76 शवों की पहचान की जा रही है।

उन्होंने कहा कि विमान का ब्लैक बॉक्स भी मिल गया और जांच बोर्ड को सौंप दिया गया। सिंध के स्वास्थ्य मंत्री अजरा पेचुहो ने कहा कि मृतकों में 68 पुरुष, 26 महिलाएं और तीन बच्चे हैं। सिंध सरकार के प्रवक्ता मुर्तजा वहाब ने कहा कि 16 लोग जमीन पर घायल हो गए, लेकिन उनमें से किसी की भी हालत गंभीर नहीं है।

24 न्यूज टीवी चैनल के वरिष्ठ पत्रकार और कार्यक्रम निर्देशक अंसार नकवी दुर्घटना के शिकार हुए लोगों में शामिल हैं। एक सेना अधिकारी मेजर शेहरयार, उनकी पत्नी और दो बच्चे भी दुर्घटना में मारे गए। पेचुहो ने कहा कि बैंक ऑफ पंजाब के अध्यक्ष जफर मसूद सहित दो व्यक्ति हादसे में जीवित बचे हैं।

एक महिला जिसे विमान हादसे में जीवित बचे तीसरे यात्री के तौर गिना जा रहा था, वह उस इलाके की निवासी पाई गई जहां विमान हादसाग्रस्त हुआ। डॉन न्यूज की खबर के मुताबिक वह उन 11 घायलों में शामिल थी जो उस रिहायशी इलाके के निवासी हैं जहां विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ।

इस बीच, पाकिस्तान एयरलाइन्स के पायलट्स एसोसिएशन (पालपा) ने हादसे की विस्तृत जांच की मांग की है लेकिन विमानों का परिचालन जारी रखने की प्रतिबद्धता भी जताई है। संगठन के महासचिव कैप्टन इमरान नरेजो ने कहा, हम पूर्व में जिस तरीके से जांच होती रही है उसे स्वीकार नहीं करेंगे और पालपा को शामिल किए बिना घटना की किसी भी जांच को नहीं मानेंगे।

संगठन ने जांच में अंतरराष्ट्रीय नागर विमानन संगठन और एयरलाइन पायलट संगठन के अंतरराष्ट्रीय संघ जैसे निकायों को शामिल करने का आह्वान किया। पीआईए के एक अधिकारी के मुताबिक, कैप्टन ने हवाई यातायात नियंत्रण टावर को सूचित किया था कि उसे विमान के लैंडिंग गियर में कुछ गड़बड़ी लग रही है और इसके बाद विमान रडार से गायब हो गया। दुर्घटना के कारण की पुष्टि होना अभी बाकी है।

पीआईए के मुख्य कार्यकारी एयर वाइस मार्शल अरशद मलिक ने कहा कि पायलट ने यातायात नियंत्रक को बताया था कि वह कुछ तकनीकी मुश्किलों का अनुभव कर रहा है। उन्होंने कहा, दुर्घटना के असली कारण का पता जांच के बाद चलेगा जो स्वतंत्र व निष्पक्ष होगी तथा यह मीडिया को उपलब्ध कराई जाएगी।

उन्होंने कहा कि इसमें दो से तीन दिन का वक्त लगेगा। पाकिस्तान ने दुर्घटना की वजह का पता लगाने के लिए चार सदस्‍यीय जांच बोर्ड का गठन किया है। सरकार के विमानन मंडल द्वारा जारी एक आधिकारिक अधिसूचना के अनुसार बोर्ड को जल्द से जल्द जांच पूरी करने के लिए कहा गया है।
नागर विमानन प्राधिकरण (सीआईए) ने कोविड-19 के कारण लगाई हवाई यात्रा पर पाबंदियों को करीब एक हफ्ते पहले ही हटाया था जिसके बाद यह विमान लाहौर से कराची की उड़ान पर था।(भाषा)


और भी पढ़ें :