कंबोडिया को फिर मिली 1 हजार वर्ष पुरानी हनुमान मूर्ति

पुनः संशोधित मंगलवार, 12 मई 2015 (19:11 IST)
नोमपेन्ह (कंबोडिया)। कंबोडिया ने ‘हनुमान जी’ की एक हजार साल पुरानी एक पाषाण मूर्ति की स्वदेश वापसी का स्वागत किया है जिसे देश के गृह युद्ध के दौरान एक मंदिर से लूट लिया गया था। यह पिछले तीन साल से एक अमेरिकी संग्रहालय में थी।
 
10वीं सदी की हनुमान जी की मूर्ति को आज नोमपेन्ह में एक समारोह में सौंपा गया, जिसमें सरकारी अधिकारी और क्लीवलैंड म्यूजियम ऑफ आर्ट के निदेशक शरीक हुए। म्यूजियम ने 1982 में यह मूर्ति प्राप्त की थी।
 
मंत्रियों के एक समारोह में उप प्रधानमंत्री सोक अन ने कहा कि यदि हनुमान सजीव होते तो हम लोग उनके चेहरे पर हमारे बीच यहां होने को लेकर उनकी खुशी देख पाते।
 
यह मूर्ति सियेम रीप प्रांत में कोह केर मंदिर परिसर के प्रसात चेन मंदिर से चुराई गई थी। वहां प्रसिद्ध अंगकोर वाट मंदिर भी है। इस मूर्ति को यूरोप और बाद में अमेरिका ले जाया गया।
 
सोक अन ने कहा, ‘अब अपनी लंबी यात्रा के बाद यह आखिरकार वापस घर आ गई।’ (भाषा)



और भी पढ़ें :