सर्वबाधा निवारक मंत्र!

रोजाना इक्कीस बार जपे घंटाकर्ण मंत्र

FILE

भगवान के सर्वबाधा निवारक को रोजाना इक्कीस बार जाप करने से आपके मन में आने वाली सभी प्रकार की बाधाएं, जैसे- चोरी का भय, राज भय, आग अथवा सर्प भय एवं भूत-प्रेत आदि की समस्त बाधाएं दूर होकर मनुष्य अपनी सारी परेशानियों से मुक्ति पा सकता है।

ॐ घंटाकर्णो महावीरः सर्वव्याधि-विनाशकः।
विस्फोटक भयं प्राप्ते, रक्ष-रक्ष महाबलः ॥1॥

यत्र त्व तिष्ठसे देव! लिखितो ऽक्षर-पंक्तिभिः।
रोगास्तत्र प्रणश्यन्ति, वात पित्त कफोद्भवाः ॥2॥

तत्र राजभयं नास्ति, यान्ति कर्णे जपात्क्षयम्‌।
शाकिनी-भूत वेताला, राक्षसाः प्रभवन्ति नो ॥3॥

नाकाले मरण तस्य, न च सर्पेण दृश्यते।
अग्नि चौर भयं नास्ति, ॐ ह्वीं श्रीं घंटाकर्ण।


और भी पढ़ें :