गुरुवार, 2 फ़रवरी 2023
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. राष्ट्रपति चुनाव 2022
  4. Cross Voting in Presidential Election 2022
Written By
Last Updated: सोमवार, 18 जुलाई 2022 (19:22 IST)

Presidential Election : राष्ट्रपति चुनाव में भी जमकर क्रॉस वोटिंग, यूपी से लेकर असम तक नेताओं ने बदला पाला

नई दिल्ली। सोमवार को देश के 16वें राष्ट्रपति के चुनाव के लिए वोटिंग हुई। सांसद और विधायकों ने NDA उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू और विपक्ष के साझा उम्मीदवार यशवंत सिन्हा के लिए मतदान किया। राष्ट्रपति चुनाव (Presidential Election) में जमकर क्रॉस वोटिंग हुई। 

 गुजरात में NCP के विधायक कांधल जडेजा, यूपी में सपा विधायक शिवपाल यादव और शहजिल इस्लाम और ओडिशा में कांग्रेस विधायक मुकीम ने क्रॉस वोटिंग की है। सभी ने NDA उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को वोट दिया है। उत्तरप्रदेश से लेकर असम तक में नेताओ ने पाला बदला।  
असम (Assam) में 20 कांग्रेस विधायकों के इस चुनाव में पाला बदलने की खबर है। खबरों के मुताबिक 20 से अधिक कांग्रेस विधायकों ने द्रौपदी मुर्मू के पक्ष में वोट डाला। 
ओडिसा के कांग्रेस विधायक मोहम्मद मुकीम ने भी द्रौपदी मुर्मू को मत डाला। गुजरात से एनसीपी विधायक कंधाल एस जडेजा पार्टी से अलग जाकर वोट किया। यूपी के बरेली से सपा विधायक शहजील इस्लाम ने दौपद्री मुर्मू को अपना मत दिया।

99.18% : प्रतिशत मतदान : देशभर के 4,800 सांसद और विधायकों ने अपना वोट डाला। सुबह 10 बजे से शुरू हुआ मतदान शाम 5 बजे तक चला। मौजूदा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के रिटायर होने के बाद एनडीए की तरफ से द्रौपदी मूर्मु और विपक्ष के संयुक्त उम्मीदवार के तौर पर यशवंत सिन्हा इस पद के लिए चुनावी मैदान में हैं। हालांकि आंकड़ें द्रौपदी मूर्मु के पक्ष में है। राज्यसभा के महासचिव पीसी मोदी ने जानकारी देते हुए बताया कि 99.18% मतदान दर्ज किया गया है।

प्रधानमंत्री ने भी डाला वोट : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी तथा पार्टी नेता राहुल गांधी ने संसद भवन में मतदान किया। देशभर में राज्य विधानसभाओं में भी मतदान हुआ। विभिन्न राजनीतिक दलों के रुख को देखते हुए इस चुनाव में राजग की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू की विपक्ष के साझा उम्मीदवार यशवंत सिन्हा के खिलाफ जीत तय मानी जा रही है।
 
8 सांसदों ने नहीं डाला वोट : निर्वाचन अधिकारी मोदी ने मतदान के बाद संवाददाताओं को जानकारी दी कि निर्वाचन आयोग ने 727 सांसदों और 9 विधायकों समेत कुल 736 निर्वाचकों को संसद भवन में मतदान की अनुमति दी थी, जिनमें से 719 सांसदों और 9 विधायकों समेत 728 ने मतदान किया। इससे पहले अधिकारी ने बताया था कि 6 सांसदों ने अपने मताधिकार का उपयोग नहीं किया, लेकिन आंकड़ों में संशोधन करते हुए यह संख्या 8 बताई गई।