भारत में होली मनाने के लिए मुख्य 11 स्थान

Best places to play Holi
अनिरुद्ध जोशी|
भारत में होली का त्योहार बहुत ही मजेदार और रंगिला होता है। कई लोग होली मनाने के लिए अपने घर या शहर से बहार जाते हैं। कई लोग जो गांव छोड़कर शहरों में काम कर रहे हैं वे अपने गांव जाते हैं। हालांकि देश में ऐसे कई स्थान हैं जहां कि होली देखने और खेलने का अपना अलग ही माजा है। ऐसे 11 स्थान हम आपके लिए चुन कर लाएं हैं।

1. ब्रज मंडल की होली : ब्रज मंडल में मथुरा, बरसाना, गोकुल, वृंदावन, गोवर्धन नंदगाव आदि कई गांव और शहर आते हैं। इसमें से बरसाना और नंदगाव की होली देखने और उसमें शामिल होना का अपना अलग ही मजा है। यहां लट्ठमार होली का शानदार आयोजन होता है।


2. मुंबई की होली : मायानगरी मुंबई को पहले बॉम्बे कहा जाता था। यहां जिस तरह गणेश उत्सव की धूम रहती है उसी तरह यहां होली की धूम भी रहती है। यहां गोविंदा होली मनाई जाती है। महाराष्ट्र और गुजरात के क्षेत्रों में गोविंदा होली अर्थात मटकी-फोड़ होली खेली जाती है। इस दौरान रंगोत्सव भी चलता रहता है।

3. आनंदपुर साहिब की होली : पंजाब में होली को 'होला मोहल्ला' कहते हैं। पंजाब में होली के अगले दिन अनंतपुर साहिब में 'होला मोहल्ला' का आयोजन होता है। ऐसा मानते हैं कि इस परंपरा का आरंभ दसवें व अंतिम सिख गुरु, गुरु गोविंदसिंहजी ने किया था। इस दौरान शारीरिक शक्ति का प्रदर्शन किया जाता है।


4. उदयपुर, जयपुर की होली : राजस्थान के उदयपुर में 'रॉयल होली उत्सव' मनाया जाता है। होली से पहले उदयपुर, मेवाड़ राज परिवार के घोड़ों के शानदार जुलूस निकलते हैं जिसके बाद शहर सुंदर रंगों से सराबोर हो जाता है। इसी तरह की होली का आयोजन जयपुर में भी होती है। जयपुर होली उत्सव में हाथी और घोड़ों को वस्त्र और रंगों से सजाया गया है। समारोह में हाथी प्रतियोगिता और टग-ऑफ-युद्ध शामिल हैं। यहां की होली को देखने के लिए भी देश-विदेश से लोग एकत्रित होते हैं।

5. भगोरिया उत्सव : मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के आदिवासियों में होली की खासी धूम होती है। मध्यप्रदेश में झाबुआ के आदिवासी क्षेत्रों में भगोरिया नाम से होलिकात्वस मनाया जाता है। भगोरिया के समय धार, झाबुआ, खरगोन आदि क्षेत्रों के हाट-बाजार मेले का रूप ले लेते हैं और हर तरफ फागुन और प्यार का रंग बिखरा नजर आता है। देश विदेश से लोग यहां की होली को देखने आते हैं।

6. इंदौर की होली : आजकल मध्यप्रदेश के शहर इंदौर की होली भी प्रसिद्ध हो चली है। इंदौर की सड़कों पर हजारों लोगों को नृत्य करते और रंग खेलते देखा जा सकता है। पूरे शहर में लोग एक ही स्थान पर एक साथ इकठ्ठे होते हैं और होली खेलते हैं।


7. पुरूलिया की होली : पश्‍चिम बंगाल के पुरुलिया में होली को रंगीन पाउडर और पारंपरिक चाउ नृत्य से मनाया जाता है। नृत्य कुछ ऐसा होता है जिसे आपने पहले नहीं देखा होगा। यहां की होली देखने के लिए भी देश विदेश से लोग एकजुट होते हैं।

8. हम्पी : कर्नाटक के हम्पी में होली का उत्सव भी बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। हम्पी 2 दिनों के लिए होली के रंगों और ढोल की आवाज से धड़कता है। होली के रंगों के बीच ऐतिहासिक विरासत और स्मारकों को देखना अद्भुत होता है।


9. गोवा की होली : गोवा के मछुआरा समाज इसे शिमगो या शिमगा कहता है। गोवा की स्थानीय कोंकणी भाषा में शिमगो कहा जाता है। यहां समुद्र के किनारे होली मनाना बहुत ही शानदार और अद्भुत अनुभव होता है। यहां होली मानने के लिए स्पेशल पैकेज रहते हैं।

10. मणिपुर और असम : मणिपुर में इसे योशांग या याओसांग कहते हैं। यहां धुलेंडी वाले दिन को पिचकारी कहा जाता है। असम इसे 'फगवाह' या 'देओल' कहते हैं। त्रिपुरा, नगालैंड, सिक्किम और मेघालय में भी होली की धूम रहती है। मणिपुर में रंगों का यह त्योहार 6 दिनों तक मनाया जाता है। साथ ही इस पर्व पर यहां का पारंपरिक नृत्य 'थाबल चोंगबा' का आयोजन भी किया जाता है। अद्भुत प्राकृतिक सौंदर्य के बीच यहां का थाबल चोंगबा नृत्य के साथ होली खेलना बहुत ही शानदार होता है।

11. कुमाउनी होली : उत्तराखंड और हिमाचल में होली को भिन्न प्रकार के संगीत समारोह के रूप में मनाया जाता है। यहां की कुमाउदी होली जग प्रसिद्ध है। कुमाउनी होली तीन प्रकार से खेली जाती है। पहला बैठकी होली, दूसरा खड़ी होली और तीसरा महिला होली। बसंत पंचमी के दिन से ही होल्यार प्रत्येक शाम घर-घर जाकर होली गाते हैं और यह उत्सव लगभग 2 महीनों तक चलता है।



और भी पढ़ें :