उन्हें पाठकों और लेखकों का अगाध प्रेम हासिल था

ब्लॉग की दुनिया ने दी विष्णु प्रभाकर को श्रद्धांजलि

Vishnu Prabhakar
ND
नहीं रहे। आवारा मसीहा के लिए पूरे साहित्य जगत में ख्यात रहे विष्णप्रभाकर का शनिवार को अंतिम संस्कार कर दिया गया। ब्लॉग दुनिया ने इस दिग्गज साहित्यकार के चले जाने का तुरंत नोटिस लिया और अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की। वे अपनी कृतियों धरती अब भी घूम रही है, आवारा मसीहा, पंखहीन और अर्धनारीश्वर के लिए जाने जाते हैं। उन्हें आवारा मसीहा पर पद्मभूषण और अर्धनारीश्वर पर साहित्य अकादमी पुरस्कार हासिल है लेकिन वे उन विरले लेखकों में से थे जिन्हें लेखकों का अप्रतिम प्रेम हासिल था।

यही कारण है कि ब्लॉग एक जिद्दी धुन पर ब्लॉगर धीरेश सैनी ने ठीक ही उल्लेख किया है कि पिछले कई वर्षों में उन्हें बीमारी और दुर्घटना की वजह से बार-बार अस्पताल जाना पड़ा था लेकिन उनकी जिजीविषा उन्हें हर बार जिलाए रखती थी। इन्हीं दिनों कई पत्रिकाओं में उन पर उनकी बाद की पीढ़ी के लेखकों के कुछ लेख भी छपे।

समयांतर में पंकज बिष्ट ने भी बेहद सम्मान और आत्मीय ढंग से इस वरिष्ठ कथाकार पर लिखा था। यह वाकई बेहद दुर्लभ था कि हिंदी के वयोवृद्ध लेखक से उनके बाद की पीढ़ी ऐसा गर्वभरा रिश्ता महसूस करती हो। शायद त्रिलोचन, शमशेर और नागार्जुन के बाद वे इस तरह के अकेले हिंदी लेखक बचे थे।

Vishnu Prabhakar
WD
और जिस तरह से उन्हें छोटे-बड़े लेखकों का स्नेह और आदर प्राप्त था ठीक वैसा ही आदर और स्नेह उन्हें पाठकों से मिला। यह बात कई लेखक स्वीकार करते हैं कि इस तरह का पाठकीय स्नेह हिंदी में बहुत कम लेखकों को प्राप्त है।

इसीलिए मार्क राय अपने ब्लॉग कुछ खास पर एक महत्वपूर्ण बात रेखांकित करते हैं कि उन्हें पाठकों का बहुत स्नेह मिला। वे लिखते हैं -विष्णु प्रभाकर हमारे बीच से चले गए लेकिन उनकी रचनाएँ हमेशा लोगों के साथ रहेंगी। प्रभाकर को पद्मभूषण दिया गया था, लेकिन देर से दिए जाने के कारण अपने आत्म सम्मान पर चोट मानते हुए उन्होंने इसे लेने से इनकार कर दिया था। उन्होंने अपने स्वाभिमान से कभी भी समझौता नही किया। उनका साहित्य पुरस्कारों से नहीं बल्कि पाठकों के स्नेह से प्रसिद्ध हुआ।

रवींद्र व्यास|
लेकिन हिंदी युग्म ब्लॉग पर विष्णु से विष्णु प्रभाकर नाम पड़ने पर एक दिलचस्प जानकारी दी गई है। इसमें लिखा गया है कि विष्णु के नाम में प्रभाकर कैसे जुड़ा, उसकी एक बेहद रुचिपूर्ण कहानी है। अपने पैतृक गाँव मीरापुर के स्कूल में उनके पिता ने उनका नाम लिखवाया था विष्णु दयाल। जब आर्य समाज स्कूल में उनसे उनका वर्ण पूछा गया तो उन्होंने बताया-वैश्य। वहाँ के अध्यापक ने उनका नाम रख दिया विष्णु गुप्ता।



और भी पढ़ें :