0

भाषा एवं लिपि की एकरूपता

शनिवार,सितम्बर 13, 2008
0
1

हिंदी की महिमा

शनिवार,सितम्बर 13, 2008
संस्कृत और हिंदी देश के दो भाषा रूपी स्तंभ हैं जो देश की संस्कृति, परंपरा और सभ्यता को विश्व के मंच पर बखूबी प्रस्तुत करते हैं। आज विश्व के कोने-कोने से विद्यार्थी हमारी भाषा और संस्कृति को जानने के लिए हमारे देश का रुख कर रहे हैं।
1
2
कतिपय प्रशंसक उनकी हौसला अफजाई करते नहीं थकते। कोई यदि गलती निकालता है तो उसे बुरा समझा जाता है। य‍ह नहीं समझते कि वह क्यों कह रहा है, ऐसा। हिंदी भाषी तो चाहते हैं कि दुनिया के सभी लोग हिंदी बोलें, हिंदी में व्यवहार करें पर इसका यह मतलब नहीं कि ...
2
3

हिंदी - माथे की बिंदी

शनिवार,सितम्बर 13, 2008
संस्कृत की एक लाड़ली बेटी है ये हिंदी। बहनों को साथ लेकर चलती है ये हिंदी।
3
4

हमारा लोकतंत्र और हिन्दी

शनिवार,सितम्बर 13, 2008
आजादी के बाद भारत में जो शासन व्यवस्था अपनाई गई वह है - लोकतंत्र। इस शब्द के कई समानार्थी शब्द भी उपलब्ध हैं - यथा प्रजातंत्र, जनतंत्र इत्यादि नाम कुछ भी हो, पर एक बात जो इन शब्दों में ध्वनित होती है
4
4
5

हिन्दी एक समृद्ध भाषा

शनिवार,सितम्बर 13, 2008
जब से मानव अस्तित्व में आया तब से ही भाषा का उपयोग कर रहा है चाहे वह ध्वनि के रूप में हो या सांकेतिक रूप में या अन्य किसी रूप में। भाषा हमारे लिए बोलचाल का माध्यम होती है। संप्रेषण का माध्यम होती है।
5
6

गौरवशाली भाषा हिंदी

शनिवार,सितम्बर 13, 2008
आलोचना, हिंदी, वसुधा, अक्षर पर्व, वागर्थ, आकल्प, साहित्य वैभव, परिवेश, कथा, संचेतना, संप्रेषण, कालदीर्घा, दायित्वबोध, अभिनव कदम, हंस आदि वे पत्रिकाएँ हैं, जो हिंदी भाषा की समृद्धि का प्रतीक हैं।
6
7
आज हिंदी दिवस है। आज एक बार पुन: हिंदी की महिमा का स्मृति दिवस आ पहुँचा है। हिंदी आज अपने प्रभाव से पूरे विश्व की नंबर एक भाषा बनने की ओर अग्रसर है। दुनियाभर में फैले
7