कसरत के बाद मांसपेशियों में दर्द के हो सकते हैं कई कारण!

पुनः संशोधित सोमवार, 4 अप्रैल 2022 (17:03 IST)
हमें फॉलो करें

डेविड आर क्लार्क, कार्ल लैंगन-इवांस और रॉब एर्स्किन, लिवरपूल जॉन मूर्स यूनिवर्सिटी

लीवरपूल, चार अप्रैल (द कन्वर्सेशन) जब अच्छी सेहत की बात आती है तो आम तौर पर कहा जाता है कि ‘‘कुछ पाने के लिए कुछ खोना पड़ता है’’। कसरत करने के बाद महसूस होने वाले दर्द के समय भी यही बात याद आती है। यह भी हो सकता है कि हम में से बहुत से लोग सोचते हैं कि कसरत के बाद अगर दर्द हो तो इसका मतलब है कि आपने पर्याप्त वर्कआउट किया है।

वर्कआउट के बाद आपकी मांसपेशियों में दर्द होने के कई कारण हो सकते हैं। लेकिन, आम धारणा के विपरीत, यह जानने के लिए कि आपने अच्छी कसरत की है, व्यायाम के बाद के घंटों या दिनों में आपको दर्द महसूस करने की ज़रूरत नहीं है।

विलंबित प्रारंभिक मांसपेशी दर्द (डीओएमएस) एक वैज्ञानिक शब्द है जो कसरत के बाद हमारी मांसपेशियों में दर्द का वर्णन करता है। आमतौर पर, यह तब होता है जब हम विशेष रूप से ज़ोरदार व्यायाम करते हैं, या यदि हम व्यायाम करते हैं पर हमें इसकी आदत नहीं होती है। यह किसी भी प्रकार के व्यायाम के बाद हो सकता है, हालांकि ताबड़तोड़ व्यायाम के बाद यह अधिक सामान्य है। ये ऐसी गतिविधियां हैं जहां मांसपेशियां खिंचने पर भार का विरोध करती हैं (जैसे कि जब आप नीचे की ओर दौड़ रहे हों या सीढ़ियां उतर रहे हों)। ऊपरी अंग की छोटी मांसपेशियां (जैसे आपके बाइसेप्स और कंधे) डीओएमएस के प्रति अधिक संवेदनशील हो सकते हैं क्योंकि वे कड़े व्यायाम के आदी नहीं होते हैं।

जबकि डीआएमएस कसरत के कुछ घंटों बाद भी हो सकता है, यह आमतौर पर व्यायाम की तीव्रता और मात्रा के आधार पर लगभग दो दिन बाद चरम पर होता है। हालांकि यह सामान्य है, इसके होने का कारण अभी तक समझ में नहीं आया है - वैसे शोधकर्ताओं के पास इस बारे में कुछ सिद्धांत हैं कि ऐसा क्यों होता है।

वर्तमान वैज्ञानिक सिद्धांत यह है कि डीआएमएस निम्न के संयोजन से जुड़ा हुआ है:

यांत्रिक क्षति (मांसपेशी फाइबर की प्रोटीन संरचना को),

मांसपेशी फाइबर को घेरने वाली झिल्ली को नुकसान,

मांसपेशी फाइबर के आसपास के संयोजी ऊतक को नुकसान,

शरीर की सूजन प्रतिक्रिया, मांसपेशियों के प्रोटीन के टूटने का कारण बनता है और कुछ नसों को उत्तेजित करता है, जिससे दर्द होता है।

कुछ हद तक व्यायाम-प्रेरित मांसपेशियों की क्षति शायद बड़ी, मजबूत मांसपेशियों के निर्माण में मदद करने के लिए आवश्यक है। वास्तव में, व्यायाम से मांसपेशियों को होने वाली क्षति मांसपेशियों की कार्यकुशलता को प्रभावित कर सकती हैं (कभी-कभी दो सप्ताह तक भी), अगली बार जब आप व्यायाम करते हैं तो आपको उसी हद तक डीओएमएस का अनुभव होने की संभावना कम होती है। इसे ऐसे भी समझा जा सकता है कि नियमित रूप से व्यायाम करने वाले लोगों को अक्सर डीओएमएस का अनुभव क्यों नहीं होता है।

नियमित वजन प्रशिक्षण, कड़े व्यायाम (जैसे स्क्वाट, डेडलिफ्ट और बेंच प्रेस) पर ध्यान केंद्रित करना भी दस प्रशिक्षण सत्रों के बाद मांसपेशियों पर व्यायाम के हानिकारक प्रभाव को कम करने में मदद करता है। इसके कई कारण हो सकते हैं, लेकिन इसका मुख्य कारण मांसपेशियों को नुकसान से बचाने के लिए बेहतर होता है।

एक व्यक्ति कितनी बार और कितनी गंभीर रूप से डीओएमएस का अनुभव करता है यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न होता है। हालांकि, वृद्ध लोग व्यायाम-प्रेरित मांसपेशियों की क्षति और डीआएमएस दोनों के लिए अधिक संवेदनशील हो सकते हैं, संभवत उनकी मांसपेशियों के जोरदार व्यायाम के बाद ठीक होने में कम सक्षम होने के कारण।



और भी पढ़ें :