भीमसेनी, पहाड़ी और सामान्य, जानिए कपूर के 3 प्रकार और सेहत के चमत्कार

Kapoor benefits
कपूर को एक आयुर्वेदिक औषधि के रूप में जाना जाता है। कपूर को संस्कृत में कर्पूर, फारसी में काफ़ूर और अंग्रेजी में कैंफ़र कहते हैं। प्राकृतिक कपूर जिसे (Bhimseni Kapoor) भी कहते हैं, इसका प्रयोग तिरूपति बालाजी में लड्डू के प्रसाद में किया जाता है। इस का कोई विशेष आकार नहीं होता है। इसे आयुर्वेदिक कपूर भी कहा जाता है। इस कपूर (Camphor) की सुगंध इतनी मोहक होती है कि मन खुश हो जाता है।

इसे आयुर्वेदिक कपूर भी कहा जाता है। दूसरा पहाड़ी और एक सामान्य कपूर होता है। केमिकल युक्त कपूर इसके अलग-अलग तरह से कई सारे फायदे हैं। कपूर का उपयोग शरीर पर, सिर में लगाने में किया जाता है। इसे कपड़े में रखा जाता है। इसके अलावा पूजा-पाठ भी कपूर सबसे ज्यादा प्रयोग किया जाता है, माना जाता है कि इसके बिना भगवान की पूजा अधूरी है। यह जहां घर की नकारात्मकता को कम करने का कार्य करता है वहीं इसके कई सारे सेहत फायदे भी हैं, जो कपूर के प्रयोग से चमत्कारिक असर दिखाते हैं।

जानिए यहां खास बातें-Benefits of Camphor

1. गर्म पानी में कपूर और नमक डालकर पैरों को सेंक लीजिए, इससे आपके पैरों में लगातार आ रही सूजन और दर्द से आपको आराम मिल सकता है।

2. कपूर को घर में खुला रख दीजिए। इसकी खुशबू से घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता रहेगा और वातावरण भी शुद्ध रहेगा।


3. जब हमारे शरीर में किसी रसायन की कमी होती है तब मन नहीं लगता है। ऐसे में कपूर को सूंघने से दिमाग में मौजूद लेकवस नामक रसायन अधिक सक्रिय हो जाते हैं जो निर्णय लेने की क्षमता को बढ़ाते हैं। यह भी उसी तरह कार्य करता है, जैसे कई बार हम मिट्टी का तेल सूंघते हैं उससे काफी अच्छा महसूस करते हैं।

4. अगर आपको घर में घुटन महसूस हो रही है तो आप थोड़ा सा कपूर जलाकर पूरे घर में उसे घूमा दीजिए। इससे ऑक्सीजन लेवल बढ़ता है।

5. कपूर हमारी सूंघने की क्षमता बढ़ाता है।

6. अगर आपको दिनभर थकान महसूस हो रही है तो आप सरसों के तेल में कपूर मिक्स करके तलवे पर मालिश करने मात्र से थोड़े दिन में आराम मिलने लगेगा।

7. पूजन- आरती के दौरान कपूर का उपयोग इसलिए किया जाता है ताकि वातावरण शुद्ध और सुगंधित बना रहे।

8. अक्सर लोगों के चश्मे का नंबर लगातार बढ़ता जाता है। ऐसे में कपूर को हल्का सा गर्म कर भौहें के ऊपर सेकने से नंबर कम होने लगता है।

9. अगर सर्दी, जुकाम के लक्षण में दिखाई दे रहे हैं तो शुरुआती दिनों कपूर के पानी की भाप लेना कारगर सिद्ध होगा।

10. अधिक समय तक अलमारी में बंद कपड़ों में कीड़े लगने का डर सता रहा हो तो कपड़ों में कपूर रखना लाभदायी सिद्ध होता है।

11. नारियल तेल में कपूर मिक्स करके सिर में लगाने से डेंड्रफ की समस्या से जूझ रहे है तो उससे जल्द ही आराम मिलेगा। इसे सप्ताह में दो बार जड़ों में लगाएं।

12. इसके अलावा अगर घर में मच्छर, कॉकरोच या चूहे हो रहे हैं तो कपूर का धुंआ कर सकते हैं या उन स्थानों पर कपूर रखकर भी लाभ लिया जा सकता हैं।




और भी पढ़ें :