क्या गिलोय से खराब होता है लिवर? चौंकाने वाली जानकारी

पुनः संशोधित शुक्रवार, 9 जुलाई 2021 (11:59 IST)

गिलोय का सेवन सेहत के लिए के अच्‍छा होता है। इसके सेवन से इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। कोरोना काल में लोगों ने गिलोय का बहुत सेवन किया ताकि कोविड महामारी जैसी बीमारी की चपेट में आने से बच सकें। इससे पहले लोग गिलोय को लेकर बहुत अधिक जागरूक नहीं थे।लेकिन कोरोना काल में गिलोय का अत्यधिक सेवन करना बहुत अधिक भारी पड़ गया है। हालांकि किसी भी चीज का अत्यधिक सेवन हानिकारक ही है। हाल ही में जर्नल ऑफ क्लिनिकल एंड एक्सपेरिमेंटल हेपेटोलॉजी में पब्लिश हुए एक शोध में पता चला है कि कोरोनावायरस के दौरान गिलोय के अत्यधिक सेवन से कई लोगों में लिवर की समस्या हो गई है। इसे लेकर बड़ी तादाद में लोग बीमार पड़ रहे हैं।

हर्बल इम्यून बूस्टर गिलोय के सेवन से लोगों के लिवर पर असर पड़ा है। इंडियन नेशनल एसोसिएशन फॉर द स्टडी ऑफ लिवर में प्रकाशित अध्ययन में इस बात की पुष्टि हुई है कि गिलोय के लगातार सेवन से लिवर को खतरा है।

गिलोय के सेवन के बाद शोध में नजर आए ये लक्षण
हाल में रिपोर्ट हुए गिलोय के सेवन के बाद कई लोगों को पीलिया, थकान, सुस्ती, पेट फूलना, भूख नहीं लगना, आंखों और त्वचा का लाल होना जैसी समस्या सामने आई है।देखा जाए तो गिलोय का सीधा असर लोगों के लीवर पर पड़ा है।

ने भी दी थी सलाह

गिलोय का उपयोग उपचार के लिए सदियों से किया जा रहा है। रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए आयुष मंत्रालय ने भी इसका सेवन करने की सलाह दी थी। साथ ही बताया गया था इसका सेवन कब और कैसे करना है। इसे कम मात्रा में लेना है। आयुष मंत्रालय के मुताबिक अर्क के रूप में 500 मिलीग्राम और 1-3 ग्राम चूर्ण को दिन में दो बार गर्म पानी के साथ लेना है। इसे पहले 15 दिन इसके बाद 1 महीने तक ले सकते हैं। किसी प्रकार की समस्या है तो अपने डॉ से सलाह जरूर लें। इसके बाद ही सेवन करें।

गिलोय का सेवन करने से लाभ

-गिलोय का सेवन करने से टॉक्सिन बाहर निकल जाते हैं।
-रक्त को प्यूरीफाई करने में सबसे अधिक मददगार।
-तनाव को कम करने में मदद करता है।
-पाचन संबंधी समस्या को सुधारता है।
-सांस संबंधी परेशानी को कम करने में मदद करता है।



और भी पढ़ें :