0

Har ki Pauri : हरिद्वार का वह घाट जहां लगता है कुंभ मेला, जानिए 10 रहस्य

रविवार,अप्रैल 4, 2021
0
1
उत्तराखंड प्रदेश में हरिद्वार अर्थात हरि का द्वार है। हरि याने भगवान विष्णु। हरिद्वार नगरी को भगवान श्रीहरि बद्रीनाथ का द्वार माना जाता है, जो गंगा के तट पर स्थित है।
1
2
उत्तराखंड प्रदेश में हरिद्वार अर्थात हरि का द्वार है। हरि याने भगवान विष्णु। हरिद्वार नगरी को भगवान श्रीहरि बद्रीनाथ का द्वार माना जाता है, जो गंगा के तट पर स्थित है। इसे गंगा द्वार और पुराणों में इसे मायापुरी क्षेत्र कहा जाता है। यह भारतवर्ष के सात ...
2
3
उत्तराखंड का एक शहर हरिद्वार जहां लगता है विश्व प्रसिद्ध कुंभ मेला। गंगा के तट पर बसा यह नगर बहुत ही खूबसूरत और प्राकृतिक छटा से परिपूर्ण है। यहां पर शिवालिक पर्वत श्रृंखला से गुजरता राजाजी नेशनल पार्क बहुत ही सुंदर है। पक्षी और वन्य प्राणियों के ...
3
4
उत्तराखंड का एक शहर हरिद्वार जहां लगता है विश्व प्रसिद्ध कुंभ मेला। गंगा के तट पर बसा यह नगर बहुत ही खूबसूरत और प्राकृतिक छटा से परिपूर्ण है। यहां पर शिवालिक पर्वत श्रृंखला से गुजरता राजाजी नेशनल पार्क बहुत ही सुंदर है। पक्षी और वन्य प्राणियों के ...
4
5
उत्तराखंड का एक शहर हरिद्वार जहां लगता है विश्व प्रसिद्ध कुंभ मेला। गंगा के तट पर बसा यह नगर बहुत ही खूबसूरत और प्राकृतिक छटा से परिपूर्ण है। आओ जानते हैं हरिद्वार के संबंध में 10 रोचक बातें।
5
6
उत्तराखंड प्रदेश में हरिद्वार अर्थात हरि का द्वार है। इसे गंगा द्वार और पुराणों में इसे मायापुरी क्षेत्र कहा जाता है। यह भारतवर्ष के सात पवित्र स्थानों में से एक है। हरिद्वार में हर की पौड़ी को ब्रह्मकुंड कहा जाता है। इसी विश्वप्रसिद्ध घाट पर कुंभ का ...
6
7
उत्तराखंड प्रदेश में हरिद्वार अर्थात हरि का द्वार है। हरि याने भगवान विष्णु। हरिद्वार नगरी को भगवान श्रीहरि बद्रीनाथ का द्वार माना जाता है, जो गंगा के तट पर स्थित है। इसे गंगा द्वार और पुराणों में इसे मायापुरी क्षेत्र कहा जाता है। यह भारतवर्ष के सात ...
7
8
उत्तराखंड प्रदेश में हरिद्वार अर्थात हरि का द्वार है। हरि याने भगवान विष्णु। हरिद्वार नगरी को भगवान श्रीहरि बद्रीनाथ का द्वार माना जाता है, जो गंगा के तट पर स्थित है। इसे गंगा द्वार और पुराणों में इसे मायापुरी क्षेत्र कहा जाता है। यह भारतवर्ष के सात ...
8
9
उत्तररांचल प्रदेश में हरिद्वार अर्थात हरि का द्वार है। हरि याने भगवान विष्णु। हरिद्वार नगरी को भगवान श्रीहरि (बद्रीनाथ) का द्वार माना जाता है, जो गंगा के तट पर स्थित है। इसे गंगा द्वार और पुराणों में इसे मायापुरी क्षेत्र कहा जाता है। यह भारतवर्ष के ...
9
10
कुंभ मेला विश्व का सबसे बड़ा सांस्कृति और धार्मिक मेला है। इस दौरान संपूर्ण भारत के लोग एक जगह एकत्रित होकर नदी में स्नान करते हैं, संतों के प्रवचन सुनते हैं और आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्ति के साथ ही अपने जीवन को सुंदर बनाने के सूत्र साथ ले जाते हैं। ...
10
11
भारत की सप्तपुरियों में से एक हरिद्वार को मायापुरी भी कहा जाता है। पहाड़ों से निकलकर गंगा यहां मैदानी क्षेत्र में उतरकर आगे बढ़ती है। यहां पर हर की पौड़ी पर ही कुंभ मेले का आयोजन होता है। यहीं पर भगवान विष्णु के पैरों के निशान बताए जाते हैं। यहीं पर ...
11
12
उत्तररांचल प्रदेश में हरिद्वार अर्थात हरि का द्वार है। हरि याने भगवान विष्णु। हरिद्वार नगरी को भगवान श्रीहरि (बद्रीनाथ) का द्वार माना जाता है, जो गंगा के तट पर स्थित है। इसे गंगा द्वार और पुराणों में इसे मायापुरी क्षेत्र कहा जाता है। यह भारतवर्ष के ...
12
13
नासिक में गोदावरी नदी के तट पर, उज्जैन में क्षिप्रा नदी के तट पर, हरिद्वार और प्रयाग में गंगा नदी के तट पर कुंभ मेले का आयोजन होता है, क्योंकि इन चार जगहों पर ही अमृत की बूंदे गिरी थी। पूर्णकुंभ मेला का आयोजन 12 वर्षों पर होता है। महाकुंभ का आयोजन ...
13
14
भारत की सप्तपुरियों में से एक हरिद्वार को मायापुरी भी कहा जाता है। पहाड़ों से निकलकर गंगा यहां मैदानी क्षेत्र में उतरकर आगे बढ़ती है। यहां पर हर की पौड़ी पर ही कुंभ मेले का आयोजन होता है। यहीं पर भगवान विष्णु के पैरों के निशान बताए जाते हैं। यहीं पर ...
14
15
श्रीपंचाग्नि अखाड़ा नाम के दो अखाड़े हैं। पहला श्री पंचदशनाम पंच अग्नि अखाड़ा- गिरीनगर, भवनाथ, जूनागढ़ (गुजरात)। शिव संन्यासी संप्रदाय के 7 अखाड़े में से एक है। इस अखाड़े में केवल ब्रह्मचारी ब्राह्मण ही दीक्षा ले सकते हैं।
15
16
हरिद्वार को हरि का द्वार कहा जाता है। इसका प्राचीन नाम मायापुरी है। यहां का प्राकृतिक सौन्दर्य देखते ही बनता है। यहां का शांत वातावरण देखकर पर्यटक मंत्रमुग्ध हो जाते हैं। यहां की हरियाली, बहती गंगा नदी, शांत और मनोहर घाट पर्यटकों को बहुत ही ज्यादा ...
16
17
उत्तररांचल प्रदेश में हरिद्वार नगरी को भगवान श्रीहरि (बद्रीनाथ) का द्वार माना जाता है, जो गंगा के तट पर स्थित है। इसे गंगा द्वार और पुराणों में इसे मायापुरी क्षेत्र कहा जाता है। यह भारतवर्ष के सात पवित्र स्थानों में से एक है। हरिद्वार में हर की पौड़ी ...
17
18
कुंभ नगरी हरिद्वार में वैसे तो संतों के पांडल सज गए हैं। 14 जनवरी ही गंगा स्नान प्रारंभ हो चुका है, परंतु अधिकृत रूप सें 27 फरवरी 2021 से कुंभ प्रारंभ होगा जो 27 अप्रैल चैत्र पूर्णिमा तक चलेगा। साधुओं के पांडलों में सत्संग, भजन, प्रवचन, दीक्षा और ...
18
19
उत्तररांचल प्रदेश में हरिद्वार नगरी को भगवान श्रीहरि (बद्रीनाथ) का द्वार माना जाता है, जो गंगा के तट पर स्थित है। इसे गंगा द्वार और पुराणों में इसे मायापुरी क्षेत्र कहा जाता है। यह भारतवर्ष के सात पवित्र स्थानों में से एक है। हरिद्वार में हर की पौड़ी ...
19