0

किताबों से दोस्ती

शुक्रवार,जनवरी 11, 2008
0
1
'दोस्त, दोस्त ना रहा/ प्यार प्यार ना रहा/ जिंदगी हमें तेरा एतबार ना रहा।' राजेन्द्रकुमार, राजकपूर, वैजयंतीमाला अभिनीत फिल्म संगम का यह गीत दर्शाता है कि दोस्त की बेवफाई जिंदगी से एतबार उठने की तरह निराशा की चरम सीमा होती है। जाहिर तौर पर दोस्ती...
1
2

मित्रता दिवस

शुक्रवार,जनवरी 11, 2008
'मित्रता दिवस' के अवसर पर ढेर सारे पाठकों ने अपने मित्रों और प्रियजनों के नाम संदेश भेजा है। यहाँ हम उनमें से कुछ चुनिंदा संदेश प्रकाशित कर रहे हैं।
2
3

तुम्हें और क्या दूँ मैं..

शुक्रवार,जनवरी 11, 2008
दोस्ती इस दुनिया में सबसे बड़ा उपहार है और फ्रेंडशिप-डे यानी दोस्ती का दिन दोस्तों के नाम। यह दिन है आपके और आपके विशेष दोस्तों के नाम। इस दिन दोस्त घूमते-फिरते हैं मौज मस्ती करते हैं। उपहारों का आदान-प्रदान करते हैं। युवाओं में बेहद लोकप्रिय...
3
4
महानगरीय सभ्यता के युवा शायद सहमत न हों मगर वास्तविकता यह है कि उनकी 'मित्रता' की अवधारणा और वास्तविक 'मित्रता' की अवधारणा में बुनियादी फर्क है। सायबर कैफे से उपजी यह पीढ़ी इंटरनेट पर चैटिंग, डिस्को, बार
4
4
5

एक दिन दोस्ती के नाम...

शुक्रवार,जनवरी 11, 2008
दोस्तों, सोचिए अगर हमारे दोस्त न होते तो यह दुनिया कितनी बेरंग होती। जिंदगी में खुशियों के रंग भरने वाला हसीन रिश्ता है - दोस्ती। हम किस घर में जन्म लेंगे, हमारे माता-पिता, भाई-बहन, चाचा-ताऊ कौन होंगे, कैसे होंगे,
5
6

सलामत रहे दोस्ताना हमारा...

शुक्रवार,जनवरी 11, 2008
महाभारत काल के महामानव कृष्ण और उनके बाल सखा सुदामा की मित्रता पर लिखी गई नरोत्तम दास की इन दो पंक्तियों को पढ़कर आज भी मित्रता का सरल व सजीव अनुभव भाव-विभोर कर देता है। दरअसल ये शब्द सिर्फ किसी पद्य का भाग नहीं हैं,
6
7
आपको एक नौकरी के बारे में जानकारी है, जिसके लिए आप और आपका दोस्‍त दोनों ही पात्रता रखते हैं, अब आप क्‍या करेंगे
7
8

चार दिन की दोस्ती...

शुक्रवार,जनवरी 11, 2008
बाहर तेज़ बारिश हो रही थी। बूँदों की टप-टप के बीच बाहरी दुनिया का शोर मंद पड़ रहा था। तंग गली के छोटे से, मगर पक्के मकान में रहने वाला व्यक्ति तेज़ बारिश में भी कुछ देखने का प्रयास कर रहा था।
8
8
9
नन्हे पैर लड़खड़ाते हुए कब खुद सँभलना सीख जाते हैं, पता ही नहीं चलता। माँ-बाप के लिए यह एक सुखद अहसास होता है। अपने बच्चों को यूँ ‍आत्मनिर्भर होते देखना, लेकिन समय के साथ-साथ उनकी मानसिक जरूरतें भी तेजी से बढ़ने लगती हैं।
9
10
आज हमारी दिनचर्या इतनी व्यस्त हो गई है कि सुबह से शाम कैसे बीत जाती है, पता ही नहीं चलता। कभी-कभी इतने काम होते हैं कि किसी को देखने या सुनने का भी शायद समय नहीं होता है, पर अक्सर जब हम फुर्सत के क्षणों में होते हैं या अकेले होते हैं
10
11

दोस्ती की शिक्षा

शनिवार,अगस्त 4, 2007
एक संयुक्त परिवार के पास एक पति-पत्नी ने मकान किराए पर लिया था। उस दिन फ्रेंडशिप डे ही था। उस परिवार के लोग बहुत ज्यादा पढ़े-लिखे तो नहीं थे लेकिन व्यवहारकुशल थे। जब वे पति-पत्नी पड़ोसी बनकर वहाँ पर रहने लगे तो हमेशा उस महिला को लगता था
11
12
जिस तरह जोडियाँ स्वर्ग में बनने की बात लोग करते हैं, शायद सच्ची दोस्ती भी स्वर्ग में ही बनती होगी। तभी तो लोग एक बार अपने खून के संबंध को भूल जाते हैं, लेकिन अपने सच्चे दोस्त को कभी भुला नहीं पाते। जहाँ रिश्तों में भौतिकता अहम हो गई है,
12