वैक्सीनेशन के बाद गुलियन बेरी सिंड्रोम नई बीमारी, जानिए क्या है लक्षण

 Covishield vaccine
की दूसरी लहर का प्रकोप कम हुआ है तो डेल्टा प्लस वेरिएंट ने दस्तक देना शुरू कर दिया है। डेल्टा प्लस के शहर में धीरे-धीरे मामले सामने आ रहे हैं। हालांकि कोरोना से ठीक हुए मरीजों में बहुत अधिक सामने आ रहे हैं। अभी तक कोविड और पोस्ट कोविड के लक्षण नजर आ रहे थे लेकिन अब सामने आए रहे हैं।

जी हां, एक शोध में दावा किया गया है कि भारत में कोविशील्ड वैक्सीन लगवाने वालों में अलग ही सिंड्रोम देखा गया है जिसे वैज्ञानिक कह रहे हैं।

आइए जानते हैं गुलियन बेरी सिंड्रोम के बारे में-

क्या है गुलियन बेरी सिंड्रोम?
यह एक प्रकार की दुर्लभ न्यूरोलॉजिकल कंडीशन है। इसका सीधा असर इम्यून सिस्टम पर पड़ता है। इम्यून सिस्टम खुद ही अपने ऊपर नकारात्मक तरीके से हावी होने लगता है। वैज्ञानिकों के मुताबिक यह सिंड्रोम बैक्टीरियल या वायरल इंफेक्शन के कारण होता है। लेकिन शोधकर्ता यह भी कह रहे हैं कि टीकाकरण होने के बाद इस बीमारी की संभावना बहुत कम है।
इस बीमारी के लक्षण

- हाथ पैर में झुनझुनी होना।
- सांस लेने में तकलीफ होना।
- आंखों से धुंधला नजर आना।
- बोलने में परेशानी होना।

- चेहरे की मांसपेशियां कमजोर होना।
- बार-बार धड़कन तेज होना।
- कब्ज की समस्या होना।

कोविशील्ड वैक्सीनेट लोगों में इसके लक्षण पाए जा रहे हैं।

जी हां, भारत के केरल राज्य में इस बीमारी के 7 नए मामले सामने आए है। जिन्हें एस्ट्रेजनेका यानी कोविशील्ड वैक्सीन दी है। यूरोपीय नियामकों के अनुसार इस संबंध में अधिक रिसर्च की जा रही है। वहीं एनाल्स ऑफ न्यूरोलॉजी के एक शोध में दावा किया है कि भारत में इस बीमारी के 7 मामले सामने आ चुके हैं। साथ ही यह मामले वैक्सीन के 10 से 22 दिन बाद इस तरह के लक्षण सामने आए है।

 Covishield vaccine





और भी पढ़ें :