क्या Omicron डेल्टा से ज्यादा खतरनाक है? जानिए आपके हर सवाल का जवाब

Last Updated: सोमवार, 6 दिसंबर 2021 (14:42 IST)
हमें फॉलो करें
के नए वैरिएंट को लेकर दुनियाभर में दहशत है। ओमिक्रॉन को लेकर कई तरह की शंका और सवाल भी उठ रहे हैं। दक्षिण अफ्रीका में शोधकर्ताओं ने 24 नवंबर, 2021 को कोविड-19 के नए स्वरूप ओमीक्रीन (B.1.1.529) की पहचान की और विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने दो दिन बाद इसे ‘चिंता वाला स्वरूप’ करार दिया। जानिए इससे जुड़े सवालों के जवाब-


ओमिक्रॉन कोरोना वायरस के स्वरूप के मामले में बेहद अलग है क्योंकि यह अब तक सार्स-सीओवी-2 का सबसे ज्यादा बदला हुआ स्वरूप है। इसकी आनुवंशिक संरचना में कुल 53 उत्परिवर्तन (म्यूटेशन) हैं और अकेले तो स्पाइक प्रोटीन पर 32 म्यूटेशन हैं। स्पाइक प्रोटीन- सार्स सीओवी-2 वायरस के बाहर निकली हुई गांठ हैं, जो वायरस को कोशिकाओं से चिपकने में मदद करती है ताकि यह उसमें प्रवेश कर सके।

अगर वायरस के स्वरूप से तुलना करें तो डेल्टा स्वरूप में नौ म्यूटेशन थे। ओमीक्रोन में ज्यादा उत्परिवर्तन का यह मतलब हो सकता है कि यह ज्यादा संक्रामक है या फिर प्रतिरक्षा सुरक्षा से बचने में ज्यादा बेहतर है, ये सारे अनुमान बेहद चिंताजनक हैं।

पेशे से विषाणु विज्ञानी सुरेश वी कुचीपुड़ी का अनुसंधान समूह कोविड-19 के विभिन्न पहलुओं का अध्ययन कर रहा है, जिसमें इसके जानवरों में प्रसार का अध्ययन में शामिल है।



और भी पढ़ें :