नामांकन करने आए 4 नेताजी निकले Corona संक्रमित

हिमा अग्रवाल| Last Updated: मंगलवार, 13 अप्रैल 2021 (18:06 IST)
मेरठ। में कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप जारी है, वहीं पंचायत चुनाव की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं। ऐसे में कोरोना से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन ने कमर कस रखी है। मेरठ जिले के परीक्षितगढ़ क्षेत्र में आज मंगलवार को प्रधान व बीडीसी उम्मीदवार अपना भरने गए तो उन्हें वहां जांच से गुजरना पड़ा।
ALSO READ:
रायपुर में कोरोना की भयावह स्थिति, मुर्दाघर में बड़ी संख्या में रखे हुए शव, बढ़ाई जा रही है श्मशानों की संख्या

कोरोना जांच में 2 प्रधान और 2 बीडीसी प्रत्याशी कोरोना पॉजिटिव पाए गए। 4 उम्मीदवारों के कोरोना मिलते ही हड़कंप मच गया। 4 में से 2 महिलाएं और 2 पुरुष हैं जिन्हें तत्काल प्रभाव से मेरठ के मुलायम सिंह हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। मेरठ जिले में नामांकन के साथ ही प्रत्याशियों के कोरोना संक्रमित होने के मामले भी सामने आने लगे हैं। मंगलवार को परीक्षितगढ़ ब्लॉक में ग्राम प्रधान, बीडीसी और ग्राम पंचायत सदस्यों के नामांकन का कार्य चल रहा है।
नामांकन दाखिल करने के लिए जब उम्मीदवार आ रहा है तो स्वास्थ्य विभाग पहले उनकी रैंडम चेकिंग कर रहा है। इस जांच में 4 प्रत्याशी कोरोना संक्रमित पाए गए जिसमें 2 बीडीसी और 2 प्रधान पद की महिला-पुरुष कोरोना पॉजिटिव मिले हैं।

मेरठ स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने इसकी जानकारी जिला मुख्यालय पर दी। मेरठ डीएम के. बालाजी ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि 12 जगहों पर नामांकन किया जा रहा है, जहां कोरोना प्रोटोकॉल का भी पालन हो रहा है। इसी कड़ी में जहां ज्यादा लोग आ रहे हैं, वहां कोरोना जांच का सेंटर बनाया गया है।
मेरठ के परीक्षितगढ़ नामांकन स्थल पर कोरोना जांच की हो रही थी जिसमें 4 लोगों को कोरोना संक्रमण पाया गया है। इन सभी को बेहतर इलाज के लिए मेरठ के मुलायम सिंह अस्पताल में भर्ती कराया है। प्रशासनिक अधिकारियों को अलर्ट किया गया है कि जिन जगहों पर भीड़भाड़ हो रही है, वहां रैंडम चेकिंग की जाए, साथ ही वहां के एसडीएम की जिम्मेदारी है कि भीड़ इकट्ठी न हो पाए।

मेरठ जिले में नामांकन के दौरान कोरोना संक्रमित मिलने की यह पहली घटना है। इससे प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों में हड़कंप मच गया है, वहीं उद्यान अधिकारी की कोरोना से मौत की पुष्टि हुई है। कोरोना की तेज चाल को देखते हुए गांवों में टेस्टिंग बढ़़ा दी गई है।



और भी पढ़ें :