मदद के लिए फिर आगे आए आदित्य चोपड़ा, फिल्म इंडस्ट्री के दिहाड़ी कामगारों को देंगे 5 हजार रुपए और राशन

Last Updated: शुक्रवार, 7 मई 2021 (12:04 IST)
कोरोना महामारी के कारण फिल्म इंडस्ट्री लगभग ठप पड़ी हुई है। इस महामारी ने इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री को पिछले एक साल से ग्रसित कर रखा था और कोविड-19 की दूसरी लहर के चलते एक बार फिर से हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री का पहिया थम चुका है। पिछले साल लॉकडाउन के दौरान आदित्य चोपड़ा ने फिल्म इंडस्ट्री के हजारों दिहाड़ी कामगारों के खातों में सीधे पैसा डालकर उनकी तरफ मदद का हाथ बढ़ाया था।

भारत के सबसे बड़े प्रोडक्शन हाउस यशराज फिल्म्स ने संकट की इस घड़ी में एक बार फिर सामने आने का फैसला किया है और फिल्म इंडस्ट्री के हजारों दिहाड़ी कामगारों की मदद करने के इरादे से 'यश चोपड़ा साथी इनिशिएटिव' लॉन्च किया है।


आदित्य चोपड़ा ने इंडस्ट्री के हजारों दिहाड़ी कामगारों द्वारा वर्तमान में झेले जा रहे भयंकर सोशियो-इकोनॉमिक और मानवीय संकट को संज्ञान में लिया है तथा यश चोपड़ा फाउंडेशन की तरफ से 'यश चोपड़ा साथी इनिशिएटिव' प्रस्तुत कर दिया गया है, ताकि हजारों दिहाड़ी कामगार इस उथलपुथल भरे बेहद अस्थिर व अनिश्चित दौर को पार कर सकें।
यश चोपड़ा फाउंडेशन इस पहल के तहत इंडस्ट्री की महिलाओं एवं वरिष्ठ नागरिकों के खाते में 5000 रुपए की राशि सीधे ट्रांसफर करेगा। इसके साथ-साथ फाउंडेशन की तरफ से हर कामगार की फैमिली के 4 सदस्यों को पूरे महीने भर के लिए राशन किट दी जाएगी।

इसे फाउंडेशन के एनजीओ पार्टनर यूथ फीड इंडिया के माध्यम से वितरित किया जाएगा। वाईआरएफ की यह मदद हासिल करने के लिए जरूरतमंद लोग https://yashchoprafoundation.org पर एक ऑनलाइन एप्लीकेशन प्रक्रिया के माध्यम से तुरंत आवेदन कर सकते हैं।
यशराज फिल्म्स के सीनियर वाइस प्रेसीडेंट अक्षय विधानी बताते हैं, यश चोपड़ा फाउंडेशन हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री तथा इसके उन कामगारों का एक सतत व अथक सपोर्ट सिस्टम बनने के लिए प्रतिबद्ध है, जो फिल्मों की हमारी 50 वर्षीय यात्रा का अंतरंग हिस्सा रहे हैं।

उन्होंने कहा, महामारी ने हमारी इंडस्ट्री की बैकबोन यानी दिहाड़ी कामगारों को टूटने की कगार पर पहुंचा दिया है। ऐसे में वाईआरएफ ज्यादा से ज्यादा कामगारों तथा उनके परिवार वालों की मदद करना चाहती है, जो आजीविका छिन जाने की वजह से एक सवाली बन कर रह गए हैं। नामक पहल हमारी इंडस्ट्री के महामारी से प्रभावित उन कामगारों को मदद पहुंचाने का लक्ष्य लेकर आगे बढ़ रही है, जिन पर फौरन सबसे ज्यादा ध्यान केंद्रित करने की जरूरत है।



और भी पढ़ें :