वर्ल्ड कप : पॉइंट टेबल में भारत के नंबर 1 होने से फायदा या नुकसान?

BBC Hindi| Last Updated: सोमवार, 8 जुलाई 2019 (20:26 IST)
2019 के ग्रुप स्टेज मैच में कई चौंकाने वाले नतीजों के बाद शनिवार को सेमीफाइनल की 4 टीमों की तस्वीर साफ हो गई है। शनिवार को ने अपने आखिरी मैच में श्रीलंका को आसानी से हरा दिया तो दूसरी तरफ वर्ल्ड कप के अंक तालिका में की टीम ऑस्ट्रेलिया 7वें नंबर की टीम दक्षिण अफ्रीका से हार गई।
 
इसका नतीजा यह हुआ कि अंक तालिका में अब भारत 15 अंकों के साथ पहने नंबर पर आ गया और ऑस्ट्रेलिया 14 अंकों के साथ पहले से दूसरे नंबर पर आ गया। हालांकि दक्षिण अफ्रीका पहले ही वर्ल्ड कप की रेस से बाहर हो गया था। तीसरे नंबर पर इंग्लैंड और चौथे नंबर पर न्यूजीलैंड है।
 
9 जुलाई को मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान में सेमीफाइनल में भारत का मुकाबला न्यूजीलैंड से होगा। ग्रुप मैच में भारत और न्यूजीलैंड का मुकाबला बारिश के कारण रद्द हो गया था। मतलब इस वर्ल्ड कप में दोनों टीमें पहली बार सीधे सेमीफाइनल में भिड़ेंगी।
न्यूजीलैंड शुरुआत में नंबर 1 पर थी और काफी मजबूत टीम मानी जा रही थी लेकिन पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड से बुरी तरह से हार का सामना करना पड़ा था। दूसरी तरफ भारत ने कुल 9 मैचों में से 8 मैच खेले हैं और महज 1 मैच में इंग्लैंड से 31 रनों से हार का सामना करना पड़ा था। ग्रुप मैचों के नतीजों के आधार पर देखें तो न्यूजीलैंड पर भारत भारी दिख रहा है।
 
अगर भारत में दूसरे नंबर पर होता तो सेमीफाइनल में इंग्लैंड से मुकाबला होता। इंग्लैंड ने ग्रुप मैच में भारत को हराया था इसलिए भारत जब सेमीफाइनल में इंग्लैंड के खिलाफ उतरता तो जेहन में वो हार जरूर होती। दूसरे सेमीफाइनल में 11 जुलाई को बर्मिंघम के एजबेस्टन मैदान में ऑस्ट्रेलिया का मुकाबला इंग्लैंड से होना है।
 
ग्रुप मैच में इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया से हार चुका है। ग्रुप मैच में ऑस्ट्रेलिया ने 9 मैचों में से कुल 7 मैच जीते हैं जबकि इंग्लैंड ने 3। इस आधार पर देखें तो ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड पर भारी दिख रहा है। 14 जुलाई को लंदन के लॉर्ड्स मैदान में वर्ल्ड कप 2019 का फाइनल मैच है।
 
भारत और न्यूजीलैंड क्रिकेट विश्व कप में अतीत में 7 बार भिड़ चुके हैं। इसकी शुरुआत 1975 के वर्ल्ड कप से ही होती है। यह मैच मैनचेस्टर में हुआ था। न्यू़जीलैंड ने 4 विकेट से भारत को हरा दिया था। खराब गेंदबाजी के कारण भारत इस मैच को हारा था।
 
इसके बाद 1979 के वर्ल्ड कप में 13 जून को लीड्स में दोनों देश आमने-सामने हुए थे और इसमें भारत को 6 विकेट से हार का सामना करना पड़ा था। भारत ने महज 183 रनों का टारगेट दिया था जिसे न्यूजीलैंड ने आसानी से हासिल कर लिया था। कुल 7 मैचों में 3 में भारत और 4 में न्यूजीलैंड विजेता रहा था।
 
भारत की मजबूती : 8 मैचों में 647 रन बनाने वाले भारतीय ओपनर रोहित शर्मा टूर्नामेंट के सबसे कामयाब बल्लेबाज हैं जबकि 8 मैचों में 17 विकेटों के साथ जसप्रीत बुमराह टूर्नामेंट के सबसे कामयाब 5 गेंदबाजों में शामिल हैं।
 
न्यूजीलैंड के लॉकी फर्ग्यूसन ने भी 17 विकेट लिए हैं जबकि न्यूजीलैंड के सबसे कामयाब बल्लेबाज कप्तान केन विलियम्सन हैं जिन्होंने 8 मैचों में 481 रन बनाए हैं। भारतीय कप्तान विराट कोहली 8 मैचों में 442 रन बना चुके हैं।
 
ऑस्ट्रेलिया के पास पहले स्थान पर पहुंचने का मौका था लेकिन उसे आखिरी लीग मैच में दक्षिण अफ्रीका ने 10 रनों से हरा दिया। मैनचेस्टर में खेले गए मैच में दक्षिण अफ्रीका ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवरों में 6 विकेट के नुकसान पर 325 रन बनाए थे। दक्षिण अफ्रीका के लिए कप्तान फॉफ डु प्लेसिस ने 100 रन बनाए।
 
326 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम 49.5 ओवरों में 315 रन बनाकर ऑल आउट हो गई। ऑस्ट्रेलिया के लिए वॉर्नर ने 122 रन बनाए बाकी बल्लेबाज बड़ी पारी नहीं खेल सके।

और भी पढ़ें :