इस बार की कार्तिक पूर्णिमा है ज्योतिष की दृष्टि से महत्वपूर्ण

Ekadashi Vrat Katha
 
की पूर्णिमा को देव दिवाली मनाते हैं। इस बार की देव दिवाली बहुत ही शुभ संयोग में मनाई जाएगी। इस दिन भगवान शिव ने त्रिपुरासुर का संहार किया और भगवान विष्णु ने मत्स्य अवतार लिया था। इसी दिन श्रीकृष्ण को आत्मबोध हुआ था और देवी तुलसी का प्राकट्य भी हुआ था। इस दिन सभी देवता यमुना तट पर दीप जलाकर दिवाली मनाते हैं। आओ जानते हैं की दृष्टि से यह क्यों हैं महत्वपूर्ण।

कार्तिक पूर्णिमा का महत्व : देव उठनी एकादशी के दिन देवता जागृत होते हैं और कार्तिक पूर्णिमा के दिन वे यमुना तट पर स्नान कर दिवाली मानाते हैं। इसीलिए इसे देव दिवाली कहते हैं। इस पूर्णिमा को ब्रह्मा, विष्णु, शिव, अंगिरा और आदित्य आदि ने महापुनीत पर्व प्रमाणित किया है।

रोगापहं पातकनाशकृत्परं सद्बुद्धिदं पुत्रधनादिसाधकम्।
मुक्तेर्निदांन नहि कार्तिकव्रताद् विष्णुप्रियादन्यदिहास्ति भूतले।।-(स्कंदपुराण. वै. का. मा. 5/34)...
अर्थात- कार्तिक मास आरोग्य प्रदान करने वाला, रोगविनाशक, सद्बुद्धि प्रदान करने वाला तथा मां लक्ष्मी की साधना के लिए सर्वोत्तम है।
ज्योतिष की दृष्टि :
1. इस दिन कृतिका नक्षत्र हो तो यह महाकार्तिकी होती है। मतलब यह कि यह सबसे अच्छा संयोग होता है।

2. यदि रोहिणी हो तो इसका महत्व और भी ज्यादा बढ़ जाता है। इस बार 29 नवंबर 2020 को कृतिका और 30 नवंबर को रोहिणी नक्षत्र है।

3. यदि इस दिन कृतिका पर चन्द्रमा और विशाखा पर सूर्य हों तो पद्मक योग होता है। यह पुष्कर में भी दुर्लभ है।

4. यदि इस दिन भरणी हो तो विशेष फल देती है।



और भी पढ़ें :