वर्ष 2023 मकर, धनु और कुंभ राशि वालों के लिए है बहुत खास, शनि महाराज देंगे अच्छे काम का लाभ

Last Updated: शुक्रवार, 2 दिसंबर 2022 (11:57 IST)
हमें फॉलो करें
वर्ष 2023 में कुछ राशियों को शनि की ढैया और साढ़ेसाती से मुक्ति मिलेगी या राहत मिलेगी। कुल मिलाकर उनके लिए अगला साल बहुत ही अच्‍छा रहने वाला है। खासकर मकर, धनु और कुंभ राशि वालों पर शनि महाराज की कृपा रहने वाली है। उन्हें उनकी मेहनत और अच्छे कामों का फल मिलेगा, लेकिन यदि उन्होंने शनि के कोई मंदे कार किए होंगे तो शनि के कुंभ राशि में परिवर्तन का उन्हें कोई फल नहीं मिलेगे।

शनि राशि परिवर्तन : शनिदेव 17 जनवरी 2023 को मकर से निकलकर कुंभ राशि में गोचर करने लगेंगे।

शनि की साढ़ेंसाती का प्रभाव 2023 : Shani Sade Sati 2023:
धनु राशि | Dhanu rashi 2023 :17 जनवरी 2023 को धनु राशि वालों को शनि की साढ़ेसाती से पूरी तरह मुक्ति मिल जाएगी। शनिदेव की कृपा के चलते सभी अटके कार्य पूर्ण होंगे। घर परिवार में सुख और शांति के साथ ही समृद्धि बढ़ेगी।

मकर राशि 2023 | Makar rashi 2023: मकर राशि वालों पर शनि की साढ़े साती 26 जनवरी 2017 से शुरू हुई थी। यह 29 मार्च 2025 को समाप्त होगी। लेकिन 2023 में कुंभ में शनि के जाने से मकर राशि वालों को राहत मिलेगी और साल 2023 उनके लिए सुख समृद्धि वाला रहेगा।
कुंभ राशि 2023 | Kumbh rashi 2023: 29 अप्रैल 2022 शनि कुंभ राशि में गया था। फिर 5 जून को शनि इसी राशि में वक्री हुआ। फिर 12 जुलाई को वक्री शनि ने मकर में प्रवेश किया। 23 अक्टूबर को शनि ने मकर में ही मार्गी गति चली। अब 17-18 जनवरी 2023 को शनि कुंभ में प्रवेश करेगा, जहां वह 2025 तक रहेगा। शनि के कुंभ में आने से कुंभ राशि वालों को बहुत हद तक शनिकी साढ़ेसाती से राहत मिलेगी। सोचे गए कार्य पूर्ण होंगे।
शनि की ढैय्या का प्रभाव खत्म | Shani ki dhaiyya ka prabhav khatma :
मिथुन राशि | Mithun rashi 2023:17 जनवरी 2023 से शनि के मार्गी होने पर मिथुन राशि से पूरी तरह ढैय्या का प्रभाव खत्म हो जाएगा। शनिदेव की कृपा के चलते सभी तरह के संकट दूर होकर मनोकामनापूर्ण होगी। आर्थिक हालात में सुधार होगा।

तुला राशि | Tula rashi 2023:17 जनवरी 2023 से शनि के मार्गी होने पर तुला राशि से पूरी तरह ढैय्या का प्रभाव खत्म हो जाएगा। तुला राशि पर शनि की ढैय्या 24 जनवरी 2020 से चल रही है। शनिदेव की कृपा के चलते सेहत में सुधार होगा। भूमि और भवन संबंधी कार्य पूर्ण होंगे।



और भी पढ़ें :