Year 2021 horoscope : क्या बन रहे हैं विषयोग, जानिए इसके अचूक उपाय

Lal kitab vastu Shani
विद्वानों की माने तो वर्ष 2020 में पूरे वर्ष कुंडली में काल सर्प योग बना रहा जिसके कारण लाखों लोगों की मौत होने के साथ ही जनता में त्राही त्राही मची रही। इस प्रकार अगले वर्ष अर्थात की कुंडली में बनने की बात कही जा रही है। क्या होता है यह विष योग और क्या होगा इसका प्रभाव साथ ही इससे बचने के क्या है उपाय, जानिए।

वर्ष की कुंडली : वर्ष 2021 में चन्द्रमा अपनी स्वयं की राशि कर्क तथा गुरु के नक्षत्र पुनर्वसु के बाद शनि के नक्षत्र पुष्य में भ्रमण करेगा। चंद्रमा प्राणी मात्र के लिए अमृत का ही स्वरूप होता है परंतु शनि के प्रभाव के कारण उत्पन्न कर रहा है। इसके अलावा इस वर्ष 2021 में शनि के साथ मकर राशि में अर्थात शनि की ही राशि में बृहस्पति के होने से भी बृहस्पति के शुभाशुभ प्रभाव निष्क्रिय हो जाते हैं। इस योग के कारण प्रजाजनों को विभिन्न प्रकार की पीड़ाएं प्राप्त हो सकती है।
हालांकि वर्ष 2021 की शुरुआत कर्क राशि और कन्या लग्न से हो रही है। चंद्रमा पुष्य नक्षत्र में तथा लग्न हस्त नक्षत्र में होने के कारण यह साल सफलता और प्रगति का सूचक भी प्रतीत हो रहा है। के अनुसार, वर्ष के स्वामी बुध अपने घर से चौथे भाव में मित्र राशि सूर्य के साथ स्थित है। शनि के नक्षत्र हैं- पुष्य,अनुराधा और उत्तराभाद्रपद और 2 राशियां हैं मकर एवं कुम्भ। तुला राशि में 20 अंश पर शनि परमोच्च है और मेष राशि के 20 अंश प परमनीच है। वर्षभर शनि मकर राशि में रहेगा। मकर राशि 10वें भव की राशि है, जोकि कर्मभाव है। हालांकि यह भी कहा जा रहा है कि वर्ष 2021 के मध्य यह स्थिति बदलेगी और बेहतर समय प्रारंभ होगा।
दरअसल, वर्ष की शुरुआत में शनि और बृहस्पति मकर राशि में रहेंगे। शनि पूरे वर्ष इसी राशि में रहेंगे परंतु बृहस्पति अपनी चाल बदलते रहेंगे। राहु और केतु पूरे वर्ष क्रमशः वृषभ और वृश्चिक राशि में जमे रहेंगे। मतान्तर से राहु को मिथुन राशि में भी उच्च का और धनु में नीच का माना जाता है। कुण्डली में राहु वृश्चिक राशि में स्थित है तब वह अपनी नीच राशि में कहलाएगा। मंगल ग्रह वह वर्ष की शुरुआत में अपनी स्वराशि मेष में स्थित होंगे और साल भर कई राशियों में भ्रमण करते हुए साल के अंत में अपनी दूसरी स्वराशि वृश्चिक में गोचर करेंगे। शेष ग्रह में शुक्र वर्ष की शुरुआत में वृश्चिक राशि में और बुध धनु राशि में होंगे तथा सूर्य वर्ष की शुरुआत में धनु राशि में होंगे। इस ग्रह गोचर से प्रत्येक राशि पर भिन्न भिन्न असर होगा, परंतु ओवरआल यह स्थिति वर्ष के मध्य तक तो खराब ही मानी जा रही है। हालांकि पिछले वर्ष की तुलना में यह वर्ष कहीं बेहतर होगा।

विषयोग क्या है : शनि व चंद्र एकसाथ एक ही भाव में स्थित होते हैं तो इस युति को 'विषयोग' के नाम से जाना जाता है। ग्रहण योग की ही भांति 'विषयोग' भी एक अशुभ योग होता है, जो जातक के लिए अनिष्टकारी होता है। चंद्रमा का किसी भी रूप में शनि के साथ मेल होना या युति होना या दृष्टि पड़ना विष योग बनाता है।

कैसे बनता है विष योग :
1.चंद्र और शनि किसी भी भाव में इकट्ठा बैठे हो तो विष योग बनता है।
2. गोचर में जब शनि चंद्र के ऊपर से या जब चंद्र शनि के ऊपर से निकलता है तब विष योग बनता है। जब भी चंद्रमा गोचर में शनि अथवा राहु की राशि में आता है विष योग बनता है।
3. कुछ ज्योतिष विद्वान मानते हैं कि युति के अलावा शनि की चंद्र पर दृष्टि से भी विष योग बनता है।
4. कर्क राशि में शनि पुष्य नक्षत्र में हो और चंद्रमा मकर राशि में श्रवण नक्षत्र में हो अथवा चन्द्र और शनि विपरीत स्थिति में हों और दोनों अपने-अपने स्थान से एक दूसरे को देख रहे हों तो तब भी विष योग बनता है।
5. यदि 8वें स्थान पर राहु मौजूद हो और शनि मेष, कर्क, सिंह, वृश्चिक लग्न में हो तो भी विष योग बनता है।
6.शनि की दशा और चंद्र का प्रत्यंतर हो अथवा चंद्र की दशा हो एवं शनि का प्रत्यंतर हो तो भी विष योग बनता है।
सकारात्मक पक्ष : कहते हैं कि इस युति में व्यक्ति न्यायप्रिय, मेहनती, ईमानदार होता है। इस युति के चलते व्यक्ति में वैराग्य भाव का जन्म भी होता है।

तब नहीं बनता है विष योग :
1. यदि कुंडली में शनि कमजोर है और चंद्र बलवान है तो विष योग का असर कम होता है।
2. युति में डिग्री देखी जाती है। यदि वह डिग्री या अंश अनुसार एक दूसरे से 12 अंश दूर है तो यह योग नहीं बनेगा।
3. लग्न की कुंडली में ये योग किस भाव में बन रहा है यह भी देखा जाता है। जैसे मेष लग्न की कुंडली में युति हो तो ये योग असर दिखाएगा। क्योंकि शनि मेष राशि में नीच का होता है, लेकिन यही युति यदि दसवें भाव में हो तो इसका असरदार नहीं होगा, क्योंकि शनि अपनी ही राशि में होगा और चन्द्र अपने चतुर्थ भाव को देख रहा होगा।
4. चाहे कोई भी लग्न हो यदि 6, 8 या 12वें भाव में ये योग बन रहा है तो लागू होता है।
विष योग का असर : कहते हैं कि जिस भी जातक की कुंडली में यह योग होता है वह जिंदगीभर कई प्राकर विष के समान कठिनाइयों का सामना करता है।

1.इससे जातक के मन में हमेशा असंतोष, दुख, विषाद, निराशा और जिंदगी में कुछ कमी रहने की टसक बनी रही है। कभी कभी आत्महत्या करने जैसे विचार भी आते हैं। मतलब हर समय मन मस्तिष्क में नकारात्मक सोच बनी रहती है।

2.यह युति जिस भी भाव में होती है यह उस भाव के फल को खराब करती है। जैसे यदि यह युति पंचम भाव में है तो व्यक्ति जीवन में कभी स्थायित्व नहीं पाता है। भटकता ही रहता है। यदि सप्तम भाव में चन्द्र व शनि की यु‍ति है तो जातक का जीवनसाथी प्रतिष्ठित परिवार से तो होता है, लेकिन दाम्पत्य जीवन की कोई गारंटी नहीं। हां यदि चंद्र शनि के साथ मंगल भी हो तो दाम्पत्य जीवन में परेशानियां आती हैं।
3.जातक शत्रुओं का नाश करने एवं उन्हें हानि पहुंचाने या उन्हें कष्ट पहुंचाने के लिए कार्य करता है। मतलब यह कि जातक के जीवन में उसके शत्रु ही महत्वपूर्ण होते हैं।

4.शनि-चन्द्र की युति वाला जातक कभी भी अपने अनुसार काम नहीं कर पाता है उसे हमेशा दूसरो का ही सहारा लेना पडता है। ऐसे जातक के स्वभाव में अस्थिरता होती है। छोटी-छोटी असफलताएं भी उसे निराश कर देती हैं।

भाव अनुसार विषयोग का प्रभाव :
1.यदि प्रथम भाव में यह यु‍ति बन रही है तो प्राणघातक सिद्ध होती है लेकिन अन्य योग प्रबल है तो जीवन शक्ति मिलती रहेगी।


2.यदि द्वितीय भाव में यह युति बन ही है तो माता को मृत्यु तुल्य कष्ट होता है। कहते हैं कि अपवाद स्वरूप दूसरी महिला का योग भी बनता है।


3. यदि यह युति तृतीय भाव बन रही है तो सन्तान के लिए घातक सिद्ध हो सकती है।


4. यदि चतुर्थ भाव में यह युति बन रही है तो व्यक्ति को शूरवीर हंता बनाती है।
5. यदि यह यु‍ति पंचम भाव में बन रही है तो अच्छा जीवनसाधी मिलके के बावजूद वैवाहिक जीवन में अधूरापन रहता है।

6. यदि यह युति छठे भाव में बन रही है तो कहते हैं कि जातक रोगी तथा अल्पायु होता है हालांकि दूसरे योग प्रबल है तो इसका असर नहीं होता है।

7. यदि यह युति सप्तम भाव में बन रही है तो जातक धार्मिक स्वभाव का होता है लेकिन जीवनसाथी को मृत्युतुल्य कष्ट होता है। कहते हैं कि यह योग बहु पत्नी/पति योग भी बनता है।
8. यदि यह युति अष्टम भाव में बन रही है तो जातक दानवीर कर्ण जैसी दानशीलता का होता है।

9. यदि यह युति नवम भाव में बन रही है तो जातक लम्बी धार्मिक यात्राएं करता हैं।

10. दशम भाव में यदि यह युति बन रही है तो जातक महाकंजूस होता है।

11. यदि यह युति एकादश अर्थात ग्यारहवें भाव में बन रही है तो जातक को शारीरिक पीड़ा होती है। व्यक्ति धर्म से विमुख होकर नास्तिक बनता है तो और भी कष्ट पाता है।
12. यदि यह युति द्वादश अर्थात बारहवें भाव में बन रही है तो जातक में धर्म के नाम पर पैसा लेता है।

इस योग
के लाल किताब अनुसार 6 उपाय :
1. प्रतिदिन हनुमान चालीसा पढ़ें। सिर पर केसर का तिलक लगाएं।
2. प्रति शनिवार को छाया दान करते रहें।
3. कभी भी रात में दूध ना पीएं।
4. अपनी वाणी एवं क्रिया-कर्म को शुद्ध रखें।
5. मांस और मदिरा से दूर रहकर माता या माता समान महिला की सेवा करें।
6. आग्नेय, दक्षिण, नैऋत्य और पश्‍चिम मुखी मकान में ना रहें।
7. कुएं में सोमवार या शनिवार को एक ग्लास कच्चा दूध डालें।



और भी पढ़ें :