बड़ी जीत दर्ज करने उतरेगा श्रीलंका

कोलंबो| वार्ता|
हमें फॉलो करें
श्रीलंका की टीम जब मंगलवार को विश्वकप के ग्रुप 'ए' मैच में केन्या के खिलाफ मैदान में उतरेगी तो उसका लक्ष्य प्रतिद्वंद्वी टीम को बड़े लक्ष्य से हराकर हाल में पाकिस्तान के हाथों कड़े मुकाबले में मिली 11 रन की हार से उबरकर अपने आक्रामक अंदाज में वापसी करना होगा।


वर्ष 1996 में चैंपियन रह चुके श्रीलंका ने हालाँकि अपने पहले विश्वकप मैच में कनाडा को 210 रनों से हराया था लेकिन शनिवार को पाकिस्तान के खिलाफ उसे एक कड़े मुकाबले में 11 रन से हार का सामना करना पड़ा। श्रीलंकाई टीम भले ही पाकिस्तान से हार गई हो लेकिन इस बार श्रीलंका के बल्लेबाज पूरी तैयारी के साथ मैदान में उतरेंगे।

श्रीलंका की ओर से पहले दोनों विश्वकप मैचों में 92 और 49 का स्कोर बनाने वाले कुमार संगकारा इस समय बेहतरीन फॉर्म में हैं और केन्याई टीम के लिए बड़ा खतरा बन सकते हैं। वहीं उपुल थरंगा, तिलकरत्ने दिलशान और महेला जयवर्द्धने भी केन्या के लिए बड़ा खतरा हैं।

वर्ष 2003 के विश्वकप में श्रीलंका को धूल चटाने वाली केन्याई टीम को इस बार विश्वकप के अपने दोनों मैच न्यूजीलैंड के खिलाफ 10 विकेट और पाकिस्तान के खिलाफ 205 रन से हार का सामना करना पड़ा है। श्रीलंकाई टीम के लिए भी इस कमजोर दिखाई दे रही टीम के खिलाफ बड़े अंतर से जीत दर्ज करना मुश्किल नहीं होगा। (वार्ता)



और भी पढ़ें :