जोर से बाज़ आए पर बाज़ आएँ क्या

ग़ालिब की ग़ज़ल और अशआर का मतलबजोर से बाज़ आए पर बाज़ आएँ क्याकहते हो हम तुझको मुँह दिखलाएँ क्य
तमाम उम्र हम उनके इश्क़ में मुबतिला रहे। लेकिन आज भी वो यही कह रहे हैं के ये ग़ालिब कौन है? यहाँ तक के वो मुझसे ही पूछते हैं के मैं कौन हूँ? अब मैं उन्हें क्या जवाब दूँ। काश कोई उन्हें मेरे बारे में बता दे के मैं कब से उनका दीवाना हूँ।



और भी पढ़ें :