माता-पिता ने आनंद की जीत को विशेष बताया

चेन्नई| भाषा|
WD
विश्वनाथन आनंद के विश्व शतरंज चैम्पियनशिप का खिताब बरकरार रखने के बाद उनके माता-पिता ने कहा कि यह जीत काफी विशेष है क्योंकि इस दिग्गज भारतीय ने बुल्गारिया के चैलेंजर वेसलीन टोपालोव को उन्हीं की सरजमीं पर हराया।

पिता विश्वनाथन और माँ सुशीला ने कहा यह कई मायनों में हमारे लिए विशेष लम्हा है। हम रोमांचित हैं क्योंकि किसी और खिलाड़ी ने आनंद की जितनी बार खिताब नहीं जीते हैं।

वर्ष 2000 में खिताब जीतना और 2007 के बाद इसे बरकरार रखना, बाबा (आनंद को उनके माता पिता प्यार से इसी नाम से पुकारते हैं) के लिए बहुत कठिन काम था लेकिन उसने इसे आसान बना डाला। उन्होंने कहा हमें पूरा भरोसा है कि वह खेल के शीर्ष स्तर पर अपना दबदबा कायम रखेगा।
आनंद ने कल सोफिया में अंतिम बाजी में टोपालोव का हराकर अपना खिताब बरकरार रखा। विश्वनाथन ने कहा कि यह जीत दर्शाती है कि उनका बेटा मानसिक तौर पर काफी मजबूत है।

उन्होंने कहा कि वह युवावस्था से ही चुनौती के लिए हमेशा तैयार रहता था। आनंद की माँ ने कहा कि उन्हें अपने बेटे की जीत की उम्मीद थी। हमें उसकी जीत की पूरी उम्मीद थी क्योंकि वह बचपन से अपने काम के प्रति हमेशा एकाग्रचित रहता था। (भाषा)



और भी पढ़ें :