फेडरर यूएस ओपन के चौथे दौर में

ड्यूकोविच की संघर्षपूर्ण जीत

न्यूयॉर्क (भाषा)| भाषा|
रोजर फेडरर ने अपने पाँचवें अमेरिकी ओपन की तरफ मजबूती से कदम बढ़ाते हुए वर्ष के इस अंतिम ग्रैंड स्लैम टेनिस टूर्नामेंट के चौथे दौर में जगह बनाई लेकिन ऑस्ट्रेलियाई ओपन चैंपियन नोवाक ड्यूकोविच को अपने किशोर प्रतिद्वंद्वी की कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ा।


बारह बार के ग्रैंड स्लैम चैंपियन फेडरर ने चेक गणराज्य के रादेक स्टेपनेक को 6-3, 6-3, 6-2 से हराकर अमेरिकी ओपन में लगातार 30वीं जीत दर्ज की। उनका अगला मुकाबला रूस के इगोर आंद्रीव से होगा, जिन्होंने 13वीं वरीयता प्राप्त स्पेनिश खिलाड़ी फर्नांडो वर्डास्को को 6-2, 6-4, 6-4 से हराया।

फेडरर ने कहा कि मेरे लिए यह अच्छा रहा कि मैंने अपनी ऊर्जा नहीं खोई तथा अच्छी टेनिस खेली। आखिर में टूर्नामेंट की खिताबी जीत ही मायने रखेगी। आप भूल जाओगे कि आपने किसे हराया और कैसे हराया। मैं शुरुआती दौर में किसी को प्रभावित करने की कोशिश नहीं कर रहा हूँ। यदि ऐसा हुआ तो यह बहुत अच्छा है।

सर्बिया के तीसरी वरीयता ड्यूकोविच को क्रोएशिया के 19 वर्षीय मारिन सिली के खिलाफ काफी संघर्ष करना पड़ा। ड्यूकोविच ने चार सेट तक चले इस मुकाबले को तीन घंटे 52 मिनट में 6-7, 7-5, 6-4, 7-6 से जीता।


ड्यूकोविच ने कहा कि मुझे वास्तव में मैच में टिके रहने के लिए हर समय संघर्ष करना पड़ा लेकिन मैं हमेशा कड़े मैचों में जीत दर्ज करने में सफल रहा हूँ। यदि आप विषम क्षणों में मानसिक तौर पर सबल रहते हैं तो यह अंतर पैदा करता है।
ओलिम्पिक काँस्य पदक विजेता ड्यूकोविच चौथे दौर में 15वीं वरीय टामी रोबरेडो से भिड़ेगे, जिन्होंने फ्रांस के जो विलफ्राइड सोंगा को 7-6 6-2 6--3 से हराया।

अमेरिका के आठवीं वरीयता प्राप्त एंडी रोडिक भी चौथे दौर में पहुँच गए हैं। उन्होंने इटली के 31वीं वरीयता प्राप्त आंद्रियास सेपी को 6-2, 7-5, 7-6 से पराजित किया।
उधर महिला वर्ग में दूसरी वरीयता प्राप्त सर्बियाई येलेना यांकोविच ने अपने पहले ग्रैंड स्लैम खिताब और दुनिया में नंबर एक खिलाड़ी बनने की तरफ कदम बढ़ाते हुए क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया। उन्होंने चौथे दौर में डेनमार्क की कारोलिन वोजनियास्की के खिलाफ पहला सेट गंवाने के बाद 3-6, 6-2, 6-1 से जीत दर्ज की।

यांकोविच ने बाद में कहा कि पहले सेट में उन्होंने बहुत अच्छा खेल दिखाया और मुझे कोर्ट के चारों तरफ दौड़ना पड़ा। मैं ऐसी परिस्थिति में अपनी लय हासिल नहीं कर पई और उन्होंने इसका फायदा उठाया।
शीर्ष वरीयता प्राप्त अन्ना इवानोविच और तीसरी वरीयता प्राप्त स्वेतलाना कुजनेत्सोवा के बाहर होने के कारण यांकोविच के पास ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट जीतने का यह सुनहरा अवसर है। उनका अगला मुकाबला ऑस्ट्रिया की सैबिले बैमर से होगा, जिन्हें वह सात मुकाबलों में से छह बार मात दे चुकी हैं।
29वीं वरीयता प्राप्त बैमर ने 12वीं वरीयता प्राप्त फ्रांसीसी मरियन बार्तोली को 7-6, 0-6, 6-4 से हराया। ओलिम्पिक चैंपियन इलेना देमेंतिवा भी नंबर एक पर पहुँचने की कवायद में हैं। यदि वह फाइनल में पहुँच जाती हैं तो फिर नंबर एक खिलाड़ी बन जाएँगी। पाँचवीं वरीयता प्राप्त इस रूसी खिलाड़ी ने चीन की ली ना को केवल 61 मिनट में 6-4, 6-1 से हराया।

उन्होंने कहा कि दुनिया में नंबर एक खिलाड़ी बनना मेरा सपना है लेकिन मैं इस बारे में नहीं सोच रही हूँ। मैं अपना ध्यान इस टूर्नामेंट पर केंद्रित करना चाहती हूँ।
क्वार्टर फाइनल में देमेंतिवा का मुकाबला 15वीं वरीय स्विस खिलाड़ी पैटी श्नाइडर से होगा, जिन्होंने स्लोवानिया की कैटरिना सर्बोतनिक को 4-6 6-3 6-3 से पराजित किया। पुरुष वर्ग में पांचवीं वरीयता प्राप्त रूसी खिलाड़ी निकोले डेवीडेंको ने हमवतन 26वीं वरीय दिमित्री तुर्सनोव को 6-2, 7-6, 6-3 से हराकर चौथे दौर में प्रवेश किया।

चिली के 11वीं वरीयता प्राप्त फर्नांडो गोंजालेज ने फिनलैंड के जारको नेमीनेन को 7-5, 6-4, 6-7, 6-1 से जबकि लक्जमबर्ग के जाइल्स मुलर ने स्पेन के 18वीं वरीयता प्राप्त निकोलस अलमार्गो के खिलाफ पहले दो सेट ँवाने के बावजूद 6-7, 3-6, 7-6, 7-6 7-5 से जीत दर्ज करके अंतिम सोलह में जगह बनाई।



और भी पढ़ें :