भविष्य के मुद्दे पर लोव ने साधी चुप्पी

इरेस्मिया| वार्ता| पुनः संशोधित गुरुवार, 8 जुलाई 2010 (19:37 IST)
FILE
विश्व कप फुटबॉल के सेमीफाइनल में स्पेन के हाथों 0-1 की हार के बाद जर्मनी के कोच जोआकिम लोव ने अपने भविष्य को लेकर चुप्पी साध ली है।

50 वर्षीय लोव का जर्मन फुटबॉल महासंघ (डीएफबी) के साथ किया गया चार वर्ष का करार 30 जून को समाप्त हो चुका है लेकिन उन्होंने आगे इस बारे में कुछ भी कहने से इनकार किया।

उन्होंने कहा कि अपने भविष्य पर कोई भी फैसला विश्व कप के बाद होगा। जर्मन टीम बुधवार को सेमीफाइनल में 0-1 से हार गई थी और अब उसे तीसरे स्थान के लिए शनिवार को उरुग्वे से मुकाबला करना है। विश्व कप न जीत पाने के बावजूद लोव की युवा टीम ने काफी बेहतरीन खेल दिखाया और सबका दिल जीत लिया।
लोव ने कहा कि चाहे कोई भी कोच बने, यह जर्मन टीम अगले दो वर्षों के दौरान और भी मजबूत होगी। पोलैंड और यूक्रेन में होने वाले 2012 के यूरो कप के लिए जर्मनी को तीन सितंबर को बेल्जियम से क्वालिफाइंग मुकाबला खेलना है।

ऐसे में लोव को टीम के साथ अपना करार आगे बढ़ाना या न बढ़ाने पर जल्द ही कोई फैसला करना होगा। इससे पहले भी फरवरी में लोव और डीएफबी के बीच फरवरी में बातचीत हुई थी लेकिन वह कामयाब नहीं रही।
जर्मनी में हुए पिछले विश्व कप के बाद लोव को जुएर्गेन क्लिंसमैन की जगह टीम का कोच बनाया गया था। लोव के आने के बाद टीम में काफी सुधार हुआ। लोव के प्रशिक्षण में जर्मनी ने 2008 के यूरो कप फाइनल में जगह बनाई लेकिन वहाँ भी उसे स्पेन से 0-1 से हारना पड़ा।

जर्मन मीडिया में इस बात पर अटकलें शुरु हो गई हैं कि लोव के कोच पद से हटने की स्थिति में उनकी जगह कौन लेगा। संभावितों में डीएफबी के खेल निदेशक मथायस सैमर का नाम भी शामिल है। (वार्ता)



और भी पढ़ें :