सेंसेक्स में 205 अंकों की बढ़त

मुंबई| भाषा| पुनः संशोधित मंगलवार, 27 मार्च 2012 (17:59 IST)
FILE
निचले स्तर पर विदेशी संस्थागत निवेशकों की लिवाली से का मंगलवार को 205 अंक की बढ़त के साथ बंद हुआ। सेंसेक्स 300 अंक से अधिक की भारी गिरावट के साथ दो माह के न्यूनतम स्तर पर चला गया था।


बाजार में आज इस तरह की खबरें थीं कि सरकार की ओर से पार्टिसिपेटरी नोट के जरिए भारत में निवेश करने वाले विदेशी निवेशकों पर कर लगाने के मामले में स्थिति स्पष्ट की गई है। सरकार केवल सभी निवेशकों को लपेटने की बजाय केवल करापवंचकों को घेरना चाहती है। इससे भी बाजार को फायदा हुआ।

एक समय 17366.84 अंक का उच्च स्तर छूने के बाद अंत में सेंसेक्स 204.58 अंक या 1.20 प्रतिशत की बढ़त के साथ 17257.36 अंक पर बंद हुआ। सोमवार को सेंसेक्स 309 अंक की गिरावट के साथ दो माह के निचले स्तर पर चला गया था।

इसी के अनुरूप नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 58.90 अंक या 1.14 प्रतिशत की बढ़त के साथ 5243.15 अंक पर पहुंच गया। सबसे ज्यादा तेजी का रुख टिकाऊ उपभोक्ता और एफएमसीजी के शेयरों में देखने को मिला।


ब्रोकरों ने कहा कि इस तरह की खबरों के बाद कि सरकार पार्टिसिपेटरी नोट्स (पी-नोट्स) के तहत सभी विदेशी निवेशकों पर निशाना नहीं साध रही है, बल्कि उसका ध्यान सिर्फ कर अपवंचना रोकने पर है। पी-नोट्स के जरिए विदेशी निवेशक भारतीय शेयरों की खरीद कर सकते हैं।
इसके अलावा वैश्विक बाजारों में सुधार से भी यहां धारणा को बल मिला। सेंसेक्स की 30 कंपनियों में से 24 के शेयर बढ़त में रहे। टिकाऊ उपभोक्ता वर्ग के सूचकांक में सबसे ज्यादा 2.07 प्रतिशत की बढ़त आई। इसी तरह एफएमसीजी वर्ग का सूचकांक 1.69 प्रतिशत मजबूत हुआ। (भाषा)



और भी पढ़ें :