शेयर बाजारों में रिकॉर्ड एफआईआई निवेश

नई दिल्ली (भाषा) | भाषा| पुनः संशोधित शुक्रवार, 2 अक्टूबर 2009 (20:11 IST)
विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) का भारतीय शेयर बाजारों में इस साल 60,000 करोड़ रुपये (करीब 12 अरब डॉलर) के आँकड़े के पार चला गया है।

आगामी महीनों में इसमें और वृद्धि होने की उम्मीद है और यह 2007 के स्तर को भी पार कर सकता है। उस वर्ष निवेश 70,000 करोड़ रुपये रहा था।

बाजार नियामक सेबी के पास उपलब्ध आँकड़ों के अनुसार, 2009 में अब तक एफआईआई ने 4,58,371 करोड़ रुपए की लिवाली और 3,98,245 करोड़ रुपये की बिकवाली की है। इस तरह भारत में उनका शुद्ध निवेश 60,125 करोड़ रुपये रहा है।
सिर्फ सितंबर माह में ही उनका निवेश 18,344 करोड़ रुपये (3.8 अरब डॉलर) के बराबर रहा।

दिल्ली की यूनिकान फाइनेंशियल इंटरमीडियरीज के मुख्य कार्यकारी गजेंद्र नागपाल ने कहा कि एफआईआई भारत जैसे उभरते बाजारों में मौका गँवाना नहीं चाहते। पिछले साल वैश्विक 1930 के दशक के बाद के सबसे भयावह वित्तीय संकट के बीच एफआईआई ने शेयर बाजारों से शुद्ध 52,000 करोड़ रुपये की निकासी की थी और वे भारत में इस साल फरवरी तक बिकवाल बने हुए थे।
भारतीय शेयर बाजारों में विदेशी निवेशकों की काफी बड़ी भूमिका मानी जाती है। यहाँ उल्लेखनीय है कि इस साल बंबई शेयर बाजार के सेंसेक्स में 77 प्रतिशत की तेजी आई है।



और भी पढ़ें :